खटटर का आरोप, सीएम अमरिंदर भड़का रहे हरियाणा के किसानों को

चंडीगढ़ (Chandigarh) . हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) मनोहर लाल खट्टर ने पंजाब (Punjab) की कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया कि वह उनके राज्य में किसानों को उकसा रही है, इसपर सीएम अमरिंदर ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है. केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ कई महीने से विरोध कर रहे किसानों के करनाल में पुलिस (Police) के साथ संघर्ष के बाद आरोप-प्रत्यारोप हुआ है. खट्टर ने उनके राज्य में किसानों के प्रदर्शन के लिए पंजाब (Punjab) सरकार को जिम्मेदार बताया. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा, ‘‘स्पष्ट रूप से पंजाब (Punjab) सरकार का हाथ है.’’

मुख्यमंत्री (Chief Minister) अमरिंदर ने थोड़ी देर बाद हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) सहित भाजपा पर आरोप लगाया कि प्रदर्शनकारी किसानों पर ‘‘खतरनाक हमले को लेकर वे ‘‘शर्मनाक झूठ बोल रहे हैं.आपकी पार्टी ने किसानों को जिन परेशानियों में धकेला है उसके लिए पंजाब (Punjab) पर दोष मढ़ने के बजाए कृषि कानूनों को वापस लें. करनाल के घरौंडा में किसान महापंचायत में हरियाणा (Haryana) सरकार के लिए अल्टीमेटम जारी किया गया.किसान नेता ने कहा कि बैठक में शनिवार (Saturday) के लाठीचार्ज के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ छह सितंबर तक मामले दर्ज करने की मांग की गई. उन्होंने कहा कि किसान सात सितंबर को करनाल में सचिवालय का घेराव होगा. करनाल एसडीएम आयुष सिंह पर खट्टर ने कहा कि आईएएस अधिकारी का ‘‘शब्द चयन अनुचित था’ लेकिन उन्होंने पुलिस (Police) कार्रवाई का बचाव किया. हरियाणा (Haryana) के उप मुख्यमंत्री (Chief Minister) और जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला ने पहले कहा था कि मजिस्ट्रेट के खिलाफ कार्रवाई होगी. लेकिन खट्टर ने कहा, ‘‘हम देखते हैं कि क्या कार्रवाई होगी.
डीजीपी मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट सौंपने वाले है. लेकिन अधिकारी को इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था.करनाल में भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने लाठीचार्ज में कथित तौर पर जख्मी होने के बाद मरने वाले किसान के परिवार के लिए 25 लाख रुपये मुआवजा और परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की. लेकिन राज्य सरकार (State government) ने कहा कि उसकी मौत अपने घर में हुई और वह जख्मी लोगों में नहीं था. हरियाणा (Haryana) सरकार के लिए अल्टीमेटम जारी कर चढ़ूनी ने प्रत्येक घायल किसान के लिए दो लाख रुपये मुआवजे की मांग की. पंजाब (Punjab) सरकार के अलावा खट्टर ने कांग्रेस नेता और हरियाणा (Haryana) के पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेंद्र सिंह हुड्डा और वामपंथी नेताओं पर भी किसान आंदोलन के लिए आरोप लगाए.
उन्होंने कहा कि पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अमरिंदर सिंह को इस्तीफा देना चाहिए, क्योंकि टीकरी और सिंघू बॉर्डर पर बैठे अधिकांश लोग, मैं कहूंगा कि लगभग 80 प्रतिशत- पंजाब (Punjab) से हैं. खट्टर ने दावा किया कि हरियाणा (Haryana) के किसान खुश हैं. खट्टर ने आंदोलनकारी किसानों को विरोध के हिंसक तरीकों का सहारा लेने के खिलाफ भी आगाह किया, जो उनके आंदोलन को नुकसान पहुंचा सकते हैं और समाज को उनके खिलाफ कर सकते हैं. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा, ‘‘हर स्वतंत्रता की सीमाएं होती हैं. कोई भी आजादी पूर्ण नहीं होती है.

Check Also

संजय राउत ने शेयर किया आर्यन खान का वीडियो सत्यमेव जयते: नवाब मलिक

नई दिल्ली (New Delhi) .क्रूज पर कथित रेव पार्टी को लेकर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) …