गाडि़यां में भिड़ंत रोकेगा सेटेलाइट से जुड़ा ‘कवच’

उदयपुर (Udaipur). रेलवे (Railway)अब अपने यात्रियों (Passengers) की सुरक्षा को लेकर काफी प्रयास कर रहा है. खासकर रेल गाडियों के आपस में टकराने की घटनाओं को रोकने के लिए स्वदेशी प्रणाली टीसीएएस (ट्रेन कोलिसन एवोइडेंस सिस्टम) ‘कवच’ विकसित कर रही है.

यह प्रणाली सैटेलाइट से रेडियो कम्युनिकेशन के माध्यम से लोकोमोटिव एवं स्टेशनों पर आपस में संबंध स्थापित करेगी, जिससे लोको पायलट को आगे आने वाले सिग्नलों की स्थिति की जानकारी मिल पाएगी. इसकी शुरूआत उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)ने अपने अधीन वाले 1586 किमी रेल लाइनों पर प्रणाली लगाने का निर्णय लिया है. जिस पर 436.22 करोड़ रुपए लागत आएगी.

उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण ने बताया कि भारतीय रेलवे (Railway)पर सिग्नल को लाल अवस्था में (अर्थात रूकने के संकेत) में पार न करने, अनुमत गति से अधिक गति से ट्रेन ना चलाने एवं आमने-सामने टकराने वाले दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बचाव प्रणाली टीसीएएस विकसित की गई है, जिसे ‘कवच’ नाम दिया गया है. एप के आने से हादसों में कमी आएगी.

Check Also

रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली पुलिस (Police) ने रेलवे (Railway)में नौकरी दिलाने के नाम …