कैमूर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, दो अलग-अलग मामले में 8 गिरफ्तार, हथियार जब्त

Photo of author

कैमूर, 16 मई . लोकसभा चुनाव के बीच कैमूर पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. पुलिस ने दो अलग-अलग मामलों में 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा कई हथियार भी जब्त किए गए हैं.

कैमूर पुलिस की पहली कार्रवाई लोकसभा चुनाव प्रभावित करने के संबंध में की गई है. पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर उनके पास से हथियार भी जब्त किए हैं. कैमूर एसपी ललित मोहन शर्मा ने बताया कि चैनपुर थाना ने गुप्त सूचना पर यह कार्रवाई की. उन्होंने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि रामगढ़ में दो व्यक्ति अपने घर में हथियार रखे हुए हैं और लोकसभा चुनाव प्रभावित करने की मंशा से हथियार का प्रदर्शन कर लोगों में दहशत फैलाने का काम कर रहे हैं.

सूचना के आधार पर पुलिस ने छापेमारी की. इस दौरान चिरकुट राजभर के घर से एक देसी कट्टा, तीन जिंदा कारतूस और पारस राजभर के घर से एक नाली देसी बंदूक, लकड़ी का बट, खुला हुआ एक बैरल और 12 बोर का दो खोखा बरामद किया गया. गिरफ्तार दोनों अपराधी चैनपुर थाना क्षेत्र के रामगढ़ निवासी शिवपूजन राजभर के पुत्र चिरकुट राजभर और बचाऊ राजभर के पुत्र पारस राजभर बताए जा रहे हैं.

वहीं, एक दूसरी कार्रवाई में पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया. इन लोगों के खिलाफ 26 अप्रैल को मोहनिया थाना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी कि कौड़ीराम गांव के पास तीन अज्ञात अपराधियों ने मारपीट कर पैसे और फोन छीने थे. 6 में से दो आरोपी पहले भी लूट के मामले में जेल जा चुके हैं. आरोपियों से दो देसी कट्टा, पांच जिंदा कारतूस, एक मोटरसाइकिल एवं पांच मोबाइल बरामद किया गया.

पुलिस की पूछताछ में गैंग के मुख्य सरगना उपेंद्र यादव उर्फ कटप्पा ने अपराध में शामिल होने की बात स्वीकार की. उसने बताया कि अप्रैल में मोहनिया थाना अंतर्गत ग्राम कौड़ीराम के पास अपने दोस्त अजय कुमार और मुकेश कुमार उर्फ बॉस के साथ मिलकर दो ट्रक चालक के साथ मारपीट की थी और हथियार का भय दिखाकर लगभग 28 हजार रुपये और दो मोबाइल छीन लिए. उपेंद्र यादव पूर्व में भी आर्म्स एक्ट और लूट के मामले में जेल जा चुका है.

कैमूर एसपी ललित मोहन शर्मा ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि सभी अपराधियों को पूछताछ के बाद न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.ट

पीएसके/