जितेंद्र राठी बने भारतीय शैली कुश्ती महासंघ के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष

Photo of author

बहादुरगढ़, 12 मई (आईएनएस) भारतीय शैली कुश्ती महासंघ के नए राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेवारी (महासंघ के पूर्व अध्यक्ष) स्व. नफे सिंह राठी के पुत्र जितेंद्र राठी को सौंपी गई है. यह निर्णय रविवार को बहादुरगढ़ में आयोजित महासंघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया.

इससे पूर्व महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर स्व. नफे सिंह राठी नियुक्त थे. बैठक में सभी से उन्हें अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की और उनके चित्र के समक्ष अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए.

इसके अलावा बैठक में ध्यानचंद अवार्डी ज्ञान सिंह (ओलंपियन ) को टेक्नीकल चेयरमैन, अर्जुन अवार्डी (ओलंपियन ) कृपाशंकर पटेल, को टेक्नीकल सेकेट्री चुना गया. वरिष्ठ उप प्रधान शिव कुमार शर्मा, उप प्रधान अर्जुन यादव, महासचिव गौरव रोशन लाल, कोषाध्यक्ष हनीफ राज शेख, संयुक्त सचिव चुत्री कप्तान तथा सदस्य सज्जन सिंह, मोहन खोपड़े, बैजनाथ सूद, खालिद शेख, सत्यनारायण, विकास दीप, जुगिंद्र पाल आदि बैठक में मौजूद थे.

इसके साथ हरियाणा कार्यकारिणी का भी गठन किया गया है. इसमें जितेंद्र राठी को हरियाणा प्रदेश का भी अध्यक्ष नियुक्त किया गया. पत्रकारों से बातचीत करते हुए महासंघ के नवनियुक्त कार्यकारी अध्यक्ष जितेंद्र राठी ने कहा कि 1958 से लेकर अब तक सीनियर नेशनल प्रतियोगिताएं करवाई जा चुकी हैं, जिसमें भारत के गौरवपूर्ण टाइटल भारत केसरी, हिंद केसरी, रुस्तमे हिंद प्रतिवर्ष किसी न किसी राज्य में आयोजित किए जाते रहे हैं. ये सभी टाइटल भारतीय शैली कुश्ती महासंघ के ट्रेड मार्क टाइटल हैं, जिन्हें बिना महासंघ की अनुमति के नहीं कराया जा सकता. उन्होंने बताया कि इसी वर्ष यूडब्ल्यूडब्ल्यू, जो विश्व स्तरीय कुश्ती संस्था है, उससे भारतीय शैली कुश्ती महासंघ को मान्यता प्राप्त हो चुकी है. जिसके बाद अब महासंघ से जुड़े खिलाड़ी पहलवानों को भी दूसरे राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय खेलों की तरह ही सुविधाएं प्राप्त होंगी. इसलिए अब खिलाड़ी पहलवानों का रुझान उपरोक्त टाइटल प्रतियोगिताओं के प्रति बढ़ रहा है.

जितेंद्र राठी ने बताया कि इसी वर्ष में महिला व पुरुष वर्ग के हिंद केसरी टाइटल प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी और सितंबर माह में स्व. नफे सिंह राठी की स्मृति में बहादुरगढ़ में कुश्ती महाकुंभ आयोजित किया जाएगा, जिसमें देशभर के प्रख्यात पहलवान हिस्सा लेंगे. इन राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं के लिए प्रत्येक राज्य में पहलवानों के ट्रायल के बाद उन्हें चयनित किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि इस वर्ष फरवरी माह में महासंघ के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष नफे सिंह राठी ने तुर्की में जाकर एमओयू साइन किया था जिसके तहत 134 देशों द्वारा महासंघ के कायों को पूर्ण मान्यता दी गई.

–आईएनएस

आरआर/