‘सीता सोरेन भाजपा के साथ हैं’, बसंत सोरेन के दावे को झारखंड नेता प्रतिपक्ष ने किया खारिज

Photo of author

रांची, 11 मई . झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के भाई बसंत सोरेन ने एक बड़ा दावा करते हुए कहा था कि सीता सोरेन बहुत जल्द घर वापसी कर सकती हैं. बसंत सोरेन की ओर से सीता सोरेन की घर वापसी के बयान पर झारखंड विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी ने प्रतिक्रिया दी है.

अमर बाउरी ने बसंत सोरेन के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पूरे देश में लोग चाहते हैं कि वह भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े. पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत को विकसित बनाने में अपना योगदान दे. देश भर में कई ऐसे लोग हैं जो कांग्रेस का टिकट ठुकरा कर भाजपा के साथ आए हैं. सीता सोरेन भी भाजपा के साथ आईं हैं, वह खुश भी हैं और जीतेंगी भी. ऐसे परिस्थिति में बसंत सोरेन का दावा सिरे से खारिज किया जाता है.

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद बहुत सी चीजें बदलने वाली है. परिवारवाद-वंशवाद की राजनीति का यह आखिरी चुनाव होगा, पूरी तरह से उनका खात्मा होगा और देश आगे बढ़ेगा. जितने भी विरोधी हैं वह वंशवाद, परिवारवाद, तुष्टीकरण, भ्रष्टाचार की आखिरी लड़ाई लड़ रहे हैं. चुनाव के बाद भारत के प्रगति का नया मार्ग प्रशस्त होगा, विकसित भारत के लिए हम सब लोग आगे बढ़ेंगे. कांग्रेस पस्त है, इस चुनाव के बाद अस्त हो जाएगी.

बता दें कि करीब दो महीने पहले सीता सोरेन ने भाजपा का दामन थामा था. वह दुमका लोकसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं. सीता सोरेन झारखंड सरकार में मंत्री बसंत सोरेन की भाभी हैं. बसंत सोरेन ने दावा किया है कि सीता सोरेन का भाजपा से मोहभंग हो गया है और वह वापस अपने परिवार में लौट सकती हैं. सीता सोरेन फिलहाल जामा क्षेत्र से विधायक हैं.

पीएसके/