जयपुर, 4 अप्रैल . जयपुर के एक अस्पताल में कर्मचारियों के भर्ती करने से इनकार करने पर महिला ने अस्पताल के बाहर ही बच्चे को जन्म दिया.

घटना बुधवार रात की है जब स्टाफ ने महिला को दूसरे अस्पताल में रेफर कर दिया और एम्बुलेंस की व्यवस्था नहीं की.

तीव्र प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला ने अस्पताल गेट के सामने ही एक बच्ची को जन्म दिया. अस्पताल के बाहर भारी भीड़ जमा हो गई जिसके बाद कर्मचारी महिला को महिला वार्ड में ले गए.

सूत्रों के अनुसार, अशोक वर्मा अपनी पत्नी को प्रसव पीड़ा होने पर कांवटिया अस्पताल ले गए. डॉक्टरों ने जांच के बाद उसे जनाना अस्पताल रेफर कर दिया. वर्मा ने उनसे उसे अस्पताल में भर्ती कराने की गुहार लगाई. स्टाफ ने साफ तौर पर मना कर दिया, जिसके बाद बहस छिड़ गई. इसके बाद स्टाफ ने उन्हें परिसर छोड़कर जनाना अस्पताल जाने के लिए कहा. स्टाफ ने न तो महिला की मदद की और न ही उसे एंबुलेंस उपलब्ध कराई.

अस्पताल से बाहर आते ही महिला ने अस्पताल भवन से सटे एक चबूतरे पर बच्ची को जन्म दे दिया.

इसके बाद सिविल लाइंस विधायक गोपाल शर्मा अस्पताल पहुंचे और अधीक्षक राजेंद्र सिंह तंवर से मुलाकात कर स्टाफ के रवैये के लिए उन्हें जमकर लताड़ लगाई. उन्होंने पीड़ित परिवार से मुलाकात की और उन्हें हरसंभव मदद का आश्वासन दिया. अपर मुख्य सचिव शुभ्रा सिंह ने भी अधिकारियों को मौके पर जाकर मामले की जांच करने का निर्देश दिया.

इस बीच, आर.एस. कांवटिया अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक तंवर ने कहा कि मामले की जांच की जाएगी और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

एमकेएस/