नई दिल्ली, 31 मार्च . सार्वजनिक तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन और जापान के पैनासोनिक समूह की पैनासोनिक एनर्जी कंपनी मिलकर देश में ही दुपहिया और तिपहिया वाहनों के लिए सिलिंड्रिकल लिथियम-आयन सेल और ऊर्जा भंडारण प्रणाली बनायेगी. दोनों कंपनियों ने इसके लिए एक संयुक्त उद्यम बनाने के लिए एक बाध्यकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

इंडियन ऑयल ने रविवार को बताया कि वह पैनासोनिक एनर्जी के साथ मिलकर देश में स्वच्छ ऊर्जा की तरफ यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए बैटरी प्रौद्योगिकी के उपयोग के संबंध में व्यवहार्यता अध्ययन कर रही है, जिसका उद्देश्य इस वर्ष की गर्मियों तक अपने सहयोग के विवरण को अंतिम रूप देना है.

कंपनियां भारत की आत्मनिर्भरता में सुधार और वैश्विक ऊर्जा परिदृश्य में देश की स्थिति को मजबूत करने के लिए स्थानीय विनिर्माण आपूर्ति श्रृंखला पारिस्थितिकी तंत्र स्थापित करने में निवेश करने की योजना बना रही हैं. इंडियन ऑयल ने एक बयान में कहा कि इससे देश के भीतर कच्चे माल की सोर्सिंग की मांग पैदा होगी, घरेलू मूल्यवर्धन बढ़ेगा और अत्यधिक कुशल सेल प्रौद्योगिकी के मामले में देश के बैटरी उद्योग को बढ़ावा मिलेगा.

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनी ने कहा कि उसका लक्ष्य पैनासोनिक एनर्जी के साथ अपनी साझेदारी के माध्यम से सीओ2 उत्सर्जन को कम करने जैसी पर्यावरणीय चुनौतियों का समाधान करना है. बैटरी विकास और विनिर्माण में पैनासोनिक एनर्जी की विशेषज्ञता का लाभ उठाते हुए, दोनों कंपनियां एक स्थायी समाज के निर्माण में मदद करने के अपने मिशन को आगे बढ़ाते हुए, लिथियम-आयन बैटरी उद्योग के विकास और भारत के ऊर्जा परिवर्तन में योगदान देने का प्रयास करेंगी.

इंडियन ऑयल ने यह भी कहा कि उसका लक्ष्य 2046 तक अपने शुद्ध-शून्य परिचालन उत्सर्जन लक्ष्य को प्राप्त करना है, जो 2070 तक देश के लिए कार्बन तटस्थता प्राप्त करने के देश के लक्ष्य के अनुरूप है.

हाल के वर्षों में, इंडियन ऑयल सौर ऊर्जा, जैव ईंधन और हाइड्रोजन के उपयोग सहित स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों के विकास में सक्रिय रूप से लगा हुआ है.

एकेजे/