नई दिल्ली, 27 अक्टूबर . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत 6जी तकनीक में अग्रणी बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है और भविष्य यहीं और अभी है.

पीएम मोदी ने यहां इंडियन मोबाइल कांग्रेस (आईएमसी) का उद्घाटन करते हुए यह बात कही. “हम देश में न केवल 5जी का विस्तार कर रहे हैं, बल्कि 6जी तकनीक के क्षेत्र में अग्रणी बनने की दिशा में भी आगे बढ़ रहे हैं. हर कोई जानता है कि 2जी (यूपीए शासन के दौरान स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले का जिक्र) के दौरान क्या हुआ था. हमारी सरकार के दौरान, 4जी का विस्तार हुआ, लेकिन हम पर कोई दाग नहीं लगा. मुझे पूरा भरोसा है कि भारत 6जी तकनीक में दुनिया का नेतृत्व करेगा.”

उन्होंने कहा कि चाहे वह दूरसंचार, प्रौद्योगिकी या कनेक्टिविटी हो या चाहे वह 6जी, एआई, साइबर सुरक्षा, सेमीकंडक्टर, ड्रोन या अंतरिक्ष क्षेत्र हो, भविष्य बहुत अलग होने वाला है.

मोदी ने कहा, “5जी के लॉन्च के एक साल के भीतर, आज लगभग चार लाख 5जी बेस स्टेशन काम कर रहे हैं. वे 97 प्रतिशत शहरों और 80 प्रतिशत से अधिक आबादी को कवर कर रहे हैं.”

इस मौके पर एयरटेल प्रमुख सुनील भारती मित्तल, आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला और रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी के साथ-साथ दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव भी मौजूद थे.

पीएम मोदी ने टेलीकॉम सेक्टर में हाल के दिनों में आए बदलाव का जिक्र करते हुए कहा कि दुनिया ‘मेड इन इंडिया’ फोन का इस्तेमाल कर रही है.

पीएम मोदी ने कहा, “हाल ही में, गूगल ने भारत में अपने पिक्‍सेल फोन के निर्माण की घोषणा की है. सैमसंग के फोल्ड 5 मोबाइल फोन और ऐप्‍पल के आईफोन 15 का निर्माण भारत में किया जा रहा है. हमें गर्व है कि दुनिया अब मेड इन इंडिया मोबाइल फोन का उपयोग कर रही है.”

उन्होंने कहा कि भारत शुद्ध आयातक से निर्यातक बन गया है.

पीएम मोदी ने कहा, “भारत मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में 118वें स्थान से 43वें स्थान पर पहुंच गया है.”

सरकार के विभिन्न उपायों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पूंजी तक पहुंच, संसाधनों तक पहुंच और प्रौद्योगिकी तक पहुंच सरकार की प्राथमिकता है.

कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने देशभर के शैक्षणिक संस्थानों को 100 ‘5जी यूज केस लैब्स’ से सम्मानित किया.