महाराष्ट्र में महामार्गों पर ३ साल में ३७ हजार लोगों की मौत

मुंबई (Mumbai) , . महाराष्ट्र (Maharashtra) में महामार्गों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जगह-जगह पर राज्य सरकार (State government) द्वारा चेतावनी के बोर्ड लगाने के बावजूद राज्य के महामार्गों पर दुर्घटनाएं कम नहीं हो रही है. इतना ही नहीं हर साल राज्य सरकार (State government) की ओर से सड़क सुरक्षा सप्ताह चलाया जाता है. मगर वाहन चालक नियम का उल्लंघन कर बेखौफ वाहन चलाते हैं परिणामस्वरूप दुर्घटनाओं के शिकार हो रहे हैं. पिछले वर्ष ही राज्य में महामार्गों पर 10 हजार से अधिक दुर्घटनाएं हुईं, जिसमें 11 हजार से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवाई है. जबकि पिछले तीन साल में 37 हजार 501 लोगों ने अपनी जान गंवाई है और 53 हजार 452 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

बताया गया है कि वर्ष 2018 में 12 हजार 98 दुर्घटनाएं हुईं, जिसमें 13 हजार 261 लोगों की मौत हुई. वर्ष 2019 में 11 हजार 787 दुर्घटनाएं हुईं, जिसमें 12 हजार 788 लोगों की मौत हुई और वर्ष 2020 में 10 हजार 646 दुर्घटनाएं हुईं, जिसमें 11 हजार 452 लोगों की मौत हुई थी. उधर नियम का उल्लंघन कर बेखौफ वाहन चलाने वाले वाहन चालकों से पिछले वर्ष 697 करोड़ 92 लाख 93 हजार रुपए का दंड वसूल किया गया था. गौरतलब हो कि राज्य के महामार्गों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए 18 जनवरी से 17 फरवरी तक राज्य सरकार (State government) की ओर से सड़क सुरक्षा सप्ताह चलाया जा रहा है.

Check Also

बिजली करंट से हाथी की मौत का मामला

जबलपुर, 25 फरवरी . बिजली के शॉक से हुई हाथी की मृत्यु के दोषी अधिकारियों …