हिन्दुस्तान जिंक की जावरमाइंस ऊर्जा प्रबंधन प्रणाली में आईएसओ 50001 प्रमाणित

हिन्दुस्तान जिंक (Hindustan Zinc) की जावर माइंस को भूमिगत खनन से जिंक और लेड कंसन्ट्रेट के उत्पादन की फ्रोथ फ्लोटेशन प्रक्रिया के माध्यम से लाभकारी तकनीक को आईएसओ 50001 ऊर्जा प्रबंधन प्रणाली से प्रमाणित किया गया है. आईएसओ 50001 एक स्वैच्छिक अंतरराष्ट्रीय मानक है जिसे आईएसओ, अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन द्वारा विकसित किया गया है. आईएसओ 50001 उद्योगों को उनकी ऊर्जा खपत और दक्षता की स्थापना, प्रबंधन और सुधार के लिए दिया जाता है.

आईएसओ 50001 एक कुशल और प्रभावी तरीके से संभावित प्रभावों से संबंधित ऊर्जा जोखिमों का प्रबंधन करने के लिए उद्योगों की क्षमता में सुधार करता है. जावर माइंस को स्फालराइट और गैलेना अयस्क का पारंपरिक प्रसंस्करण बल्क प्रोसेसिंग के माध्यम से किया गया जो कि मैनुअल था. अब पूरा ऑपरेशन डिफरेंशियल फ्लोटेशन तकनीक के माध्यम से किया जाता है जिसमें क्रशिंग ऑपरेशन में ऑटोमैटिक प्रोसेस कंट्रोल जैसी विभिन्न तकनीकें शामिल होती हैं, एपीसी हाई डेफिनिशन फ्रॉथ कैमरा के उपयोग से फ्रॉथ फ्लोटेशन में, ऑनलाइन के माध्यम से अयस्क का निरंतर नमूनाकरण स्ट्रीम विश्लेषक जो अयस्क के ऑनलाइन ग्रेड को मापता है जो अन्य प्रक्रिया मापदंडों को अनुकूलित करने के लिए निरंतर आधार पर प्रक्रिया को नियंत्रित करने में मदद करता है.

वित्तीय वर्ष 2019 में 4604 टन कार्बन उत्सर्जन, वित्तीय वर्ष 2020 में 3020 टन और वित्तीय वर्ष 2021 में 4538 टन कम किया गया. जावर माइंस ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा दक्षता के प्रति समर्पित है. जहां अक्षय ऊर्जा के साथ- साथ ऊर्जा दक्षता उत्पादों में निवेश किया गया है. हाल ही में यहां 170 किलोवाट सोलर रूफ टॉप प्लांट प्रारंभ किया गया है और कार्बन उत्सर्जन को 187 टन तक कम किया है. जावर माइंस द्वारा सोलर रोड लाइट लगाकर रोशनी प्रणाली का ऑटोमेशन किया है. मानक ऊर्जा कुशल उत्पाद यानी एलईडी, बीईई रेटेड उत्पादों और मोटर्स के उपयोग पर केंद्रित हैं.

Check Also

सीएम गहलोत के खिलाफ केंद्रीय मंत्री का अमर्यादित बयान, कांग्रेस नेताओं ने की बयान की निंदा

जयपुर (jaipur) . कांग्रेस नेताओं ने राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok …