हेपेटाइटिस की दवा का इस्तेमाल कोरोना में


नई दिल्ली (New Delhi) . भारत और अमेरिका समेत दुनियाभर में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. हालांकि इसके खिलाफ टीकाकरण अभियान भी चल रहे हैं और तरह-तरह की दवाओं की खोज भी की जा रही है जो कोरोना के खिलाफ कारगर हो सकें. इसी क्रम में मशहूर दवा कंपनी जायडस कैडिला ने भारतीय औषधि महानियंत्रक यानी डीसीजीआई से हेपेटाइटिस की एक दवा का इस्तेमाल कोरोना (Corona virus) के इलाज में करने के लिए अनुमति मांगी है.

इस दवा का नाम पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा-2बी है. जायडस कैडिला ने सोमवार (Monday) को जारी एक बयान में कहा कि पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा 2बी के तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल में इस दवा से कोरोना के इलाज को लेकर उत्साहजनक नतीजे मिले हैं. दरअसल, कंपनी इस दवा को पेगीहेप ब्रांड नाम से बेचती है. जायडस कैडिला ने कहा कि जो शुरुआती नतीजे सामने आए हैं उनसे पता चलता है कि शुरुआत में इसके इस्तेमाल से कोरोना के मरीज संक्रमण से ज्यादा तेजी से उबरते हैं. इसके साथ ही इससे मरीजों को परेशानियां भी नहीं होती हैं.

Check Also

मप्र में पिछले 20 दिन में 774 मौतें : 24 घंटे में 13,107 नए केस, 75 मौतें, अप्रैल के अब तक 1.45 लाख लोग हो चुके कोरोना संक्रमित

-अब तक 4,788 मौतें, इसमें से 774 पिछले 20 दिनों में हुईं, पॉजिटिविटी रेट 24 …