गुटेरेस ने पाकिस्तान चुनाव विवादों को कानूनी तरीकों से सुलझाने का किया आह्वान – indias.news

संयुक्त राष्ट्र, 13 फरवरी . संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने पाकिस्तान चुनाव विवादों को कानूनी तरीकों से सुलझाने का आह्वान किया है.

उनके प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने सोमवार को कहा, “महासचिव अधिकारियों, राजनीतिक नेताओं से शांत माहौल बनाए रखने, हिंसा से दूर रहने और तनाव बढ़ाने वाली किसी भी कार्रवाई से बचने का आग्रह करते हैं.”

पाकिस्तान को राजनीतिक उथल-पुथल का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि गुरुवार के चुनावों में किसी भी राजनीतिक दल को सरकार बनाने के लिए स्पष्ट बहुमत नहीं मिलाा. चुनाव में धोखाधड़ी के दावों के बीच जेल में बंद पूर्व प्रधान मंत्री इमरान खान के समर्थक सेना के व‍िरोध के बावजूद अप्रत्याशित रूप से मजबूत हो गए हैं.

दुजारिक ने कहा कि गुटेरेस स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं. उन्‍होंने कहा, “वह सभी मुद्दों और विवादों को स्थापित कानूनी ढांचे के माध्यम से हल करने और मानवाधिकारों और कानून के शासन का पाकिस्तान के लोगों के हित में पूरी तरह से सम्मान करने का आह्वान करते हैं.”

जिन 268 नेशनल असेंबली सीटों पर चुनाव लड़ा गया, उनमें से पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के संस्थापक खान का समर्थन करने वाले निर्दलीय उम्मीदवारों ने 93 सीटें हासिल कीं, जो अन्‍य दलों से अधिक हैं.

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पाकिस्तान यूनियन मुस्लिम लीग-नवाज 75 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही और बिलावल भुट्टो जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी 54 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर रही.

खान को आधिकारिक गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने और अवैध विवाह करने सहित चार आपराधिक मामलों में दोषी ठहराया गया था, और कुल 34 साल की जेल की सजा दी गई है.

पीटीआई ने आरोप लगाया है कि बड़े पैमाने पर मतदान में धांधली हुई है. उसके समर्थकों ने रविवार को देश भर में विरोध प्रदर्शन किया, कुछ स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई.

इस बीच, वाशिंगटन में, विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, “हस्तक्षेप और धोखाधड़ी के जो दावे हमने देखे हैं, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि पाकिस्तान की कानूनी प्रणाली द्वारा पूरी तरह से जांच की जाए, और हम आने वाले दिनों में भी इसकी निगरानी करना जारी रखेंगे.”

उन्होंने कहा कि “हिंसा और इंटरनेट व सेल फोन सेवा पर प्रतिबंधों” ने “चुनाव पर नकारात्मक प्रभाव डाला है.”

लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि “यह स्पष्ट रूप से एक प्रतिस्पर्धी चुनाव था, इसमें लोग अपनी पसंद का प्रयोग करने में सक्षम थे.”

/