राज्यपाल बोले पुलिस की छवि बदली जायें


जयपुर (jaipur) . सरदार पटेल पुलिस (Police), सुरक्षा एवं दाण्डिक न्याय विश्वविद्यालय जोधपुर (Jodhpur) के स्थापना दिवस पर राज्यपाल कलराज मिश्र ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये पुलिस (Police) की छवि पर आये दिन लग रहे बदनामी के दाग पर कहा कि अंग्रेजी शासन में पुलिस (Police) की कार्यशैली जनहितार्थ नहीं होने के कारण वो दाग आज भी लगते चले आ रहे है जबकि लोकतंत्र में पुलिस (Police) की कार्यशैली अच्छी है और छवि भी बदली है.

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि ब्रिटिश सरकार पुलिस (Police) का इस्तेमाल लोगों का दमन करने में करती रही, इसलिए पुलिस (Police) की छवि आरंभ से खराब रही है. यह छवि अब भी चली आ रही है. इस छवि को बदलने की आवश्यकता है. कोरोना की गति को रोकने में पुलिस (Police) ने बड़ी भूमिका निभाई है. राजस्थान (Rajasthan)के पुलिस (Police) अफसरों—पुलिस (Police)कर्मियों,कर्मचारियो की भूमिका की जितनी तारीफ की जाए वह कम है. यह काम मन की आंतरिक अनुभूति की वजह से हुआ है, यह आंतरिक अनुभूति आगे भी बनाई रखनी चाहिए. उन्होंने कहा, कोविड जागरूकता अभियान से लेकर लोगों की मदद करने तक पुलिस (Police) ने विशेष भूमिका निभाई है. पुलिस (Police) की इस छवि का प्रचार-प्रसार हो. इस अवसर पर उन्होने कहा कि पुलिस (Police) के सामने सबसे बड़ी चुनौती साइबर अपराधों से बचाने की है इसके लिए शिक्षण प्रशिक्षण की नई तकनीक का उपयोग जरूरी हो गया है.

संविधान की मूल भावना को आत्मसात करने की आवश्यकता गहलोत:- सरदार पटेल पुलिस (Police) विश्वविद्यालय के स्थापना दिवस पर महामहिम राज्यपाल के द्वारा उद्बोधित की गई वर्चुअल कॉन्फ्रेस के साथ मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) भी जुडे इस दौरान उन्होने राज्यपाल की तारीफ करते हुए कहा कि आप पहले राज्यपाल हैं जिन्होंने संविधान की प्रस्तावना पढवाने की शुरुआत की, इसके लिए आप साधुवाद के पात्र है. सीएम गहलोत ने कहा कि संविधान की मूल भावना को आत्मसात करने की आवश्यकता है.

खुशी तब होती है जब राज्यपाल संविधान की मूल भावना को देखते हुए हर कार्यक्रम की शुरुआत में संविधान की प्रस्तावना पढ़वाते हैं, इस शुरुआत के लिए राज्यपाल साधुवाद के पात्र हैं. आप पहले राज्यपाल हैं जिन्होंने यह शुरुआत की है. हमें संविधान की मूल भावना को आत्मसात करना चाहिए, यही हमारी खूबी होनी चाहिए. जो संविधान की शपथ लेता है उसका यह मूल दायित्व है कि वह इसे निभाएं.

Check Also

अब डाक टिकट पर दादी जानकी!

 (लेखक/ -डॉ श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट) प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की मुख्य प्रशासिका रही राजयोगिनी …