मैदा और आटे में बोरिक एसिड की मिलावट जांचने के लिए एफएसएसएआई ने बताई तरकीब

नई दिल्ली (New Delhi) . त्योहार के मौसम में बाजार में मिलावटी चीजों की खूब बिक्री होती है. इस दौरान मैदा और चावल के आटे की भी काफी खरीदारी होती है. इनका इस्तेमाल स्वीट डिश, मिठाइयों समेत तरह-तरह के पकवान बनाने में किया जाता है. क्या आप जानते हैं ज्यादा मुनाफे के चक्कर में दुकानदार मैदा और चावल के आटे में बोरिक एसिड का इस्तेमाल करते हैं, जिससे हमारी सेहत को भारी नुकसान हो सकता है. फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) ने हाल ही में अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें बोरिक एसिड वाले मैदा और चावल के आटे की पहचान की तरकीब बताई गई है. यह छोटा सा उपाय आपकी जेब और सेहत दोनों के लिए फायदेमंद साबित होगा.

मैदा या चावल के आटे में बोरिक एसिड को पहचानने के लिए एक टेस्ट ट्यूब में 1 ग्राम मैदा लीजिए. इसके बाद उसमें 5 एमएल पानी डालिए और अच्छे से मिक्स कीजिए. इस प्रक्रिया के बाद टेस्ट ट्यूब में कॉन्सनट्रेटेड एचसीएल की कुछ बूंदें डालिए. इसके बाद इस सॉल्यूशन में एक टरमरिक पेपर डालिए. यदि मैदा शुद्ध हुआ तो पेपर के रंग में कोई बदलाव नहीं होगा. अगर पेपर का रंग लाल पड़ जाए तो समझ जाइए इसमें मिलावट की गई है. बोरिक एसिड एक केमिकल है, जो हमारी सेहत के लिए हानिकारक है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, बोरिक एसिड से पेट में दर्द, बुखार, जी मिचलाना, त्वचा पर लाल धब्बे या जलन, पेल्विक इनफ्लेमेटरी और हाई ब्लड प्रेशर जैसी दिक्कतें बढ़ सकती हैं.

Check Also

गर्भावस्था के दौरान रखें ये सावधानी

गर्भावस्था के दौरान दौरान खराब क्वालिटी या बीपीए युक्त प्लास्ट‍िक बोतल में पानी पीने वाली …