फोर्ड ने यूएस में 126,000 एक्सप्लोरर मॉडल वापस मंगाए

नई दिल्ली (New Delhi) . फोर्ड मोटर कंपनी ने रियर सस्पेंशन फेल होने की संभावना को देखते हुए यूएस में 126,000 एक्सप्लोरर मॉडल वापस मंगाए हैं. बताया गया है ‎कि इन वाहनों में सस्पेंशन घटक होते हैं जिनके टूटने की संभावना अधिक हैं. इन मॉडल में 2011-2013 मॉडल वर्ष एक्सप्लोरर्स भी शामिल हैं जिन्हें पहले इसी मुद्दे के लिए 2019 के जुलाई में भी वापस बुलाया गया था. पहले से प्रभावित वाहनों को फोर्ड डीलरशिप में एक रियर के साथ सर्विस किया गया हो सकता है, जिसमें जेडएफ द्वारा उत्पादित एक टो लिंक क्रॉस-एक्सिस बॉल जॉइंट अटैचमेंट होता है जो सीज हो सकता है, जिससे रियर सस्पेंशन टो लिंक के आउटबोर्ड सेक्शन में दरार आ सकती है. यदि रियर लिंक टूट जाता है तो इससे स्टीयरिंग पर नियंत्रण कम हो सकता है, जिससे दुर्घटना होने का खतरा बढ़ जाएगा. फोर्ड द्वारा एकत्र किए गए फील्ड डेटा के अनुसार, रियर टो लिंक विशेष रूप से उच्च संक्षारण भेद्यता वाले क्षेत्रों में कमजोर होता है जहां सर्दियों में रोड सॉल्ट का उपयोग किया जाता है. फोर्ड द्वारा रिकॉल में 2011 के 39,747 एक्सप्लोरर मॉडल, 2012 के 41,572 और 2013 के 44,714 मॉडल शामिल हैं.
प्रभावित वाहन 17 मई, 2010 से 3 सितंबर, 2012 के बीच बनाए गए थे. विशेष रूप से रिकॉल उन एक्सप्लोरर मॉडल को प्रभावित करता है जो पंजीकृत हैं या अमेरिका के कुछ क्षेत्रों जैसे कनेक्टिकट, डेलावेयर, इलिनोइस, इंडियाना, आयोवा में नए बेचे गए हैं. फोर्ड कंपनी ने इस बात की सूचना दी है कि प्रभावित वाहनों के मालिकों को इस साल 1 नवंबर से मेल द्वारा सूचित किया जाएगा. जिसके बाद उन्हें अपने वाहन को नजदीकी स्थानीय फोर्ड या डीलरशिप पर ले जाने की सलाह दी जाएगी. डीलरशिप पर इंजीनियर प्रभावित वाहन के निलंबन का निरीक्षण करेंगे और यदि उन्हें पता चलता है कि पिछले रिकॉल से ‎‎रिप्लेसमेंट कम्पानेंट मौजूद हैं तो वे इसे और अन्य घटकों को आवश्यकतानुसार बदल देंगे. फोर्ड डीलरशिप निरीक्षण और बदलाव मुफ्त में करेगी. ऑटोमेकर ने निलंबन के विफल होने के जोखिम के कारण हुई किसी दुर्घटना या दुर्घटना के बारे में भी सूचित नहीं किया है.

Check Also

भारत में नए अवतार में आ रही 3 देसी कार

नई दिल्ली (New Delhi) . मारुति सुजुकी और टाटा मोटर्स के साथ ही महिंद्रा एंड …