कश्मीर से मिश्री किस्म की चेरी का पहला वाणिज्यिक लदान दुबई को निर्यात

नई दिल्ली (New Delhi) . बागवानी फसलों के निर्यात को बढ़ावा देने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए कश्मीर घाटी से मि किस्म की स्वादिष्ठ चेरी का पहला वाणिज्यिक लदान (शिपमेंट) श्रीनगर (Srinagar) से दुबई के लिए निर्यात किया गया है. एपीडा ने एमएस देसाई एग्री-फूड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा दुबई के लिए हुए चेरी के इस लदान में मदद की है. यह कंपनी एमएस इनोटेरा, दुबई की उद्यम कंपनी है. इस लदान से पहले नमूने की एक खेप जून 2021 के मध्य में श्रीनगर (Srinagar) से दुबई के लिए हवाई जहाज से भेजी गई थी, जिसे मुंबई (Mumbai) से ट्रांसशिप किया गया था. दुबई में उपभोक्ताओं से मिली उत्साहजनक प्रतिक्रिया के बाद मि किस्म की चेरी का पहला वाणिज्यिक लदान दुबई के लिए निर्यात किया है. मि किस्म की यह चेरी न केवल स्वादिष्ट होती है बल्कि इसमें स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ विटामिन, खनिज और वनस्पति यौगिक भी भरपूर मात्रा में होते हैं. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में देश की वाणिज्यिक किस्मों की चेरी के कुल उत्पादन का 95% से अधिक उत्पादन होता है. यहां चेरी की चार किस्मों- डबल, मखमली, मि और इटली का मुख्य रूप से उत्पादन होता है.
लदान से पहले चेरी को एपीडा से पंजीकृत निर्यातक द्वारा चेरी की तुड़ाई, सफाई और पैकिंग की गई थी, जबकि तकनीकी जानकारी कश्मीर के शेर-ए-कश्मीर कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा उपलब्ध कराई गई है. एपीडा-राष्ट्रीय अंगूर अनुसंधान केंद्र, पुणे (Pune) स्थित एक राष्ट्रीय रेफरल प्रयोगशाला है जिसने लदान में खाद्य सुरक्षा और गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए सहायता प्रदान की है, इससे विशेष रूप से मध्य-पूर्व देशों में चेरी के ब्रांड सृजन में मदद मिलेगी.

Check Also

भारत में इलेक्ट्रिक कारों पर इम्पोर्ट ड्यूटी सबसे अधिक: एलन मस्क

मुंबई (Mumbai) . टेस्ला की इलेक्ट्रिक कारों का भारत में बेसब्री से इंतजार हो रहा …