नोएडा सुपरटेक मामला में एसआईटी की रिपोर्ट पर 3 रिटायर्ड आईएएस समेत 30 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज

नोएडा (Noida) . उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के औद्योगिक क्षेत्र नोएडा (Noida) सुपरटेक मामले में जांच कर रही एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट शासन को सौंपे जाने के बाद विजिलेंस ने एफआईआर (First Information Report) दर्ज कर ली है. इस मामले में विजिलेंस ने तीन रिटायर्ड आईएएस समेत 30 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. यह केस नोएडा (Noida) के सीनियर मैनेजर प्लानिंग वैभव गुप्ता की तहरीर पर दर्ज की गई है. जिनमें रिटायर आईएएस तत्कालीन सीईओ नोएडा (Noida) मोहिंदर सिंह, रिटायर आईएएस तत्कालीन सीईओ एसके द्विवेदी, रिटायर आईएएस तत्कालीन एसीईओ आरपी अरोड़ा, रिटायर ओएसडी यशपाल सिंह शामिल है. इनमें अथॉरिटी के

तत्कालीन और सुपरटेक के अधिकारी शामिल हैं. एफआईआर (First Information Report) में एसआईटी की जांच रिपोर्ट को आधार बनाया गया है.
इसमें कहा गया है कि घपले में नोएडा (Noida) अथॉरिटी और सुपरटेक के अधिकारियों की मिलीभगत के सुबूत मिले हैं. जांच में पता चला है कि सुपरटेक ने नियमों की अनदेखी की है. वहीं, नोएडा (Noida) अथॉरिटी के अधिकारियों ने बिल्डर को अनुचित आर्थिक लाभ दिलाने के लिए नियमों के विपरीत काम किया. सुपरटेक की कमियों को नजरअंदाज करते हुए अवैधानिक निर्माण को जारी रखने में सहयोग दिया. गौरतलब है कि एसआईटी ने इस मामले की विस्तृत जांच किसी स्वतंत्र एजेंसी द्वारा एफआईआर (First Information Report) दर्ज कराकर कराए जाने की सिफारिश की थी. इसके बाद विजिलेंस ने यह एफआईआर (First Information Report) कराई है.

ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने सुपरटेक लिमिटेड को आवंटित ग्रुप हाउसिंग भूखंड पर बने अवैध टावर संख्या टी-16 और टी-17 को ध्वस्त करने के आदेश दिए थे. साथ ही नोएडा (Noida) अथॉरिटी के दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई के लिए कहा था. इस मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आईआईडीसी संजीव मित्तल की अध्यक्षता में जिम्मेदारी तय करने के लिए चार सदस्यीय समिति गठित की गई थी. समिति ने 3 अक्टूबर को शासन को रिपोर्ट सौंप दी थी.

Check Also

सोने , चांदी की कीमतों में गिरावट

नई दिल्ली (New Delhi) . घरेलू बाजार में बुधवार (Wednesday) को सोने, चांदी (Silver) की …