अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ मुंबई में FIR दर्ज · Indias News

अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ मुंबई में FIR दर्ज

– सांप्रदायिक नफरत फैलाने और उद्धव सरकार (Government) को बदनाम करने का आरोप
– कंगना के वकील रिजवान बोले-व्यक्तिगत मत रखने का हक

मुंबई (Mumbai),. आख़िरकार फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ मुंबई (Mumbai) के बांद्रा पुलिस (Police) थाना में एफआईआर (First Information Report) दर्ज कर ली गई है. कंगना के साथ उनकी बहन रंगोली चंदेल के खिलाफ भी एफआईआर (First Information Report) दर्ज की गई है. दोनों बहनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 295 (ए) 153 (ए) और 124 (ए) के तहत मामला दर्ज हुआ है. एफआईआर (First Information Report) के अनुसार कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल ने अपने ट्वीट्स के जरिए सांप्रदायिक सदभाव बिगाड़ने और महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार (Government) का नाम बदनाम करने का काम किया है. मालूम हो कि बांद्रा कोर्ट ने कास्टिंग डायरेक्टर साहिल अशरफ सय्यद की शिकायत के बाद हाल ही में कंगना और उनकी बहन के खिलाफ एफआईआर (First Information Report) दर्ज करने के आदेश दिए थे. साहिल के वकील रवीश जमींदार के अनुसार ये सभी धाराएं नॉन बेलेबल हैं.

शनिवार (Saturday) को कोर्ट से आदेश मिलने के बाद कोर्ट की ऑर्डर कॉपी लेकर शिकायतकर्ता और उनके वकील बांद्रा पुलिस (Police) स्टेशन पहुंचे थे. बताया गया है कि पुलिस (Police) पहले इस केस में शिकायत कॉपी को पढ़ेगी और फिर इस मामले में सबूत जुटाने की कोशिश करेगी. पुलिस (Police) इस मामले की गहराई से जांच करने की कोशिश करेगी और जब भी जरूरत होगी वे इस मामले में कंगना को समन भी कर सकते हैं. गौरतलब हो कि कोर्ट में दायर की गई याचिका में कहा गया था कि कंगना रनौत लगातार बॉलीवुड (Bollywood) को बदनाम करने की कोशिश कर रही हैं. सोशल मीडिया (Media) प्लेटफॉर्म से लेकर टीवी तक, हर जगह वह बॉलीवुड (Bollywood) के खिलाफ बोल रही हैं. वह लगातार बॉलीवुड (Bollywood) को नेपोटिज्म और फेवरेटिज्म का अड्डा बता रही हैं. याचिका में आरोप लगाया गया कि कंगना ने बॉलीवुड (Bollywood) के हिंदू और मुस्लिम कलाकारों के बीच खाई पैदा की है. वह लगातार आपत्तिजनक ट्वीट कर रही हैं जिससे न केवल धार्मिक भावनाएं आहत हुई बल्कि फिल्म इंडस्ट्री में कई लोग इससे आहत हैं.

– कंगना के ट्वीट्स की गलत व्याख्या- वकील रिजवान

वहीं इस पूरे प्रकरण पर कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दकी ने कहा, ‘मुझे उन ट्वीट्स को चेक करनी होगा जिनका उल्लेख कोर्ट में किया गया है. जिन ट्वीट्स के बारे में बात की गई है, हो सकता है कि उनकी व्याख्या गलत तरीके से की गई हो. मुल्ला का मतलब धार्मिक प्रमुख होता है. आदेश की प्रतिलिपि मिलने के बाद ही इस पर कुछ टिप्पणी कर सकूंगा. वकील रिजवान ने कहा, ‘ऐसा कुछ नहीं है जिससे लगे कि वह सांप्रदायिक नफरत फैला रही हैं. मैं मुस्लिम हूं और पिछले 10 साल से कंगना के साथ जुड़ा हूं.’ उन्होंने कहा, ‘मैं उनके ट्वीट पर बोलने के लिए अधिकृत नहीं हूं. एक बार जब मुझे पूरी ऑर्डर कॉपी मिल जाएगी तो मैं इसके बारे में बोल सकूंगा.’ उन्होंने कहा, ‘सांप्रदायिक घृणा के लिए मेरे क्लाइंट के ट्वीट्स जिम्मेदार नहीं हैं. इसके लिए यह साबित करना होगा कि वे ट्वीट्स सांप्रदायिक घृणा के लिए जिम्मेदार हैं. मुल्ला के खिलाफ उनका ट्वीट इस्लाम समुदाय के खिलाफ नहीं बल्कि धार्मिक प्रमुख के खिलाफ है, यह पैगंबर मुहम्मद या मुसलमानों के खिलाफ नहीं है. कंगना किसी भी धर्म के खिलाफ नहीं हैं.’

Check Also

सितंबर तिमाही में Gold etf में 2,400 करोड़ का निवेश हुआ

नई ‎दिल्ली. कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) की वजह से निवेशक जोखिम भरे साधनों में …