भारत में बढ़ रहे हैं पारिवारिक कैंसर के मामले : विशेषज्ञ – indias.news

नई दिल्ली, 3 फरवरी . हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया जाता है. इसी को लेकर विशेषज्ञों ने भारत में ‘पारिवारिक कैंसर’ के बढ़ते मामलों पर अपनी चिंता व्यक्त की है.

पारिवारिक कैंसर की विशेषता एक ही प्रकार के कैंसर से पीड़ित दो या दो से अधिक प्रथम-डिग्री रिश्तेदारों में जीन म्यूटेशन है. विशेषज्ञों के अनुसार यह स्थिति जेनेटिक प्रवृत्ति, परिवर्तनशील जीन प्रवेश और पर्यावरणीय कारकों से प्रभावित होती है.

सीके बिड़ला अस्पताल में सर्जिकल ऑन्कोलॉजी के निदेशक मनदीप सिंह मल्होत्रा ने को बताया, “पारिवारिक कैंसर तब उत्पन्न होता है जब परिवार के कई सदस्यों को एक ही कैंसर होने की संभावना अधिक होती है. जबकि पर्यावरणीय कारक भूमिका निभा सकते हैं, कई मामलों में जेनेटिक जीन शामिल होते हैं, जिससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है.”

उन्‍होंने कहा, ”ये जीनोमिक कैंसर वैश्विक कैंसर के 5-10 प्रतिशत मामलों में शामिल हैं और रोकथाम के लिए इन्हें समझना महत्वपूर्ण है. अन्य उल्लेखनीय पारिवारिक कैंसर के प्रकारों में मेडुलरी थायरॉयड कैंसर, पारिवारिक एडिनोमेटस पॉलीपोसिस और कोलोरेक्टल कैंसर से जुड़ा लिंच सिंड्रोम शामिल हैं.”

जेनेटिक कैंसर सिंड्रोम पर मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर द्वारा किए गए डेटा विश्लेषण से कुल सकारात्मकता दर 49.02 प्रतिशत सामने आई.

इसमें परीक्षण के लिए गए 102 रोगियों के परिणामों का अध्ययन किया गया.

कुल पाए गए मामलों में से, अधिकतम मामले स्तन कैंसर (34 प्रतिशत) के थे, इसके बाद गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर (30 प्रतिशत), डिम्बग्रंथि (8 प्रतिशत) और प्रोस्टेट कैंसर थे.

मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर लिमिटेड की मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी और वरिष्ठ ऑन्कोपैथोलॉजिस्ट कीर्ति चड्ढा ने कहा, ”कैंसर के 10-15 प्रतिशत मामलों में परिवार की क्रमिक पीढ़ियों से चली आ रही जेनेटिक प्रवृत्ति को जिम्मेदार ठहराया गया है. स्तन, बृहदान्त्र, मूत्राशय और डिम्बग्रंथि के कैंसर आमतौर पर जेनेटिक प्रवृत्ति से जुड़े होते हैं.”

उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि उन्होंने विशेष रूप से कम से कम दो अलग-अलग प्राथमिक ठोस ट्यूमर कैंसर के व्यक्तिगत इतिहास वाले व्यक्तियों में रोगजनक उत्परिवर्तन की उच्च पहचान दर देखी.

उन्होंने कहा, ”बीआरसीए संबंधित कैंसर का निदान 40 वर्ष या उससे कम उम्र में किया जाता है, कोलोरेक्टल पॉलीपोसिस का इतिहास और स्तन गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिम्बग्रंथि और प्रोस्टेट कैंसर में उच्च अनुपात के साथ ऐसे अन्य उद्धृत संबंध हैं.”

इसके अलावा, स्वास्थ्य विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि यदि किसी व्यक्ति के परिवार के करीबी सदस्यों को कैंसर है तो उन्हें परामर्श लेने पर विचार करना चाहिए.

डॉक्टर महज आशंका से परे जाकर वास्तविक जोखिम का आकलन करने के लिए एक वंशावली चार्ट बनाएंगे. पहचाने गए जोखिमों के आधार पर, विशिष्ट कैंसर प्रकारों या एकाधिक जीनों को लक्षित करते हुए विभिन्न जीनोमिक परीक्षणों की सिफारिश की जा सकती है.

मारेंगो एशिया हॉस्पिटल्स में कैंसर केयर/ऑन्कोलॉजी, सीनियर कंसल्टेंट और एचओडी – ऑन्कोलॉजी सनी जैन ने को बताया, ”जेनेटिक कैंसर संवेदनशीलता जीन वाले व्यक्ति को यह सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त कदम उठाने चाहिए कि वह आपके जोखिम को कम करने और कैंसर का शीघ्र पता लगाने के तरीके ढूंढ सके.”

उन्होंने कहा, “इसमें स्वस्थ आहार खाना, धूम्रपान और शराब छोड़ना, नियमित जांच कराना, विभिन्न स्क्रीनिंग कार्यक्रमों में नामांकन करना और कैंसर के सभी परिवर्तनीय जोखिम कारकों का ध्यान रखते हुए अधिक शारीरिक रूप से सक्रिय रहना शामिल हो सकता है.”

विशेषज्ञों के अनुसार, एक बार किसी व्यक्ति को परिणाम मिलने के बाद शीघ्र पता लगाने और हस्तक्षेप के लिए, रोकथाम की रणनीतियों को तैयार किया जा सकता है.

एमकेएस/एबीएम