फिट रहने के लिए एक्सरसाइज बेहद जरूरी: डब्ल्यूएचओ

-घर पर काम करने वालों के लिए जारी की नई गाइडलाइन

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना काल में घर पर काम कर रहे लोगों के ‎लिए अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) (डब्ल्यूएचओ) ने फिजिकल एक्टिविटी की नई गाइडलाइन जारी कर दी है. डब्ल्यूएचओ की नई गाइडलाइन में बताया गया है कि खुद को फिट रखने के लिए आपको रोज कितनी एक्सरसाइज करनी चाहिए. शारीरिक को मानसिक और शारीरिक रूप से फिट रखने के लिए एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी होता है. डब्ल्यूएचओ का कहना है कि अगर दुनिया का हर व्यक्ति फिजिकल एक्टिविटी करने लगे तो हर साल होने वाली 40 से 50 लाख मौतों को टाला जा सकता है. हालांकि आज की भागमभाग जिंदगी में दुनिया के करीब 27.5 फीसदी वयस्क और 81फीसदी किशोर डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन को पूरा नहीं करते हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के मुताबिक हर रोज फिजिकल एक्टिविटी करने से कई तरह की बीमारियों से राहत मिल सकती है. फिजिकल एक्टिविटी करने से हार्ट और डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों से भी बचा जा सकता है. दरअसल ये बीमारी इतनी खतरनाक हो चुकी हैं कि दुनिया में एक चौथाई मौतें इन्हीं के कारण होती हैं. यही नहीं फिजिकल एक्टिविटी से डिप्रेशन और एंग्जाइटी में भी कमी आती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के मुताबिक घर पर काम कर रहे लोगों के लिए एरोबिक एक्टिविटी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है. वयस्क लोगों को स्वस्थ रहने के लिए हर हफ्ते 150 से 300 मिनट तक एरोबिक एक्टिविटी करनी चाहिए जबकि बच्चों को रोजाना कम से कम 60 मिनट तक एरोबिक एक्टिविटी करनी चाहिए. शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए जरूरी नहीं कि कुछ चुनिंदा एक्टिविटी को किया जाए. अगर आप किसी भी तरह का मेहनत वाला काम करते हैं तो वो भी फिजिकल एक्टिविटी में शामिल होता है. इसके अलावा हर दिन किसी न किसी खेल को खेल कर भी आप फिट रह सकते हैं. फिजिकल रूप से फिट रहने के लिए साइकलिंग, वॉकिंग या दौड़ भी लगाई जा सकती है. फिजिकली एक्टिव रहने से मांसपेशियों को काफी ताकत मिलती है. 60 साल से अधिक उम्र के लोगों का फिजिकली एक्टिव रहना बेहद जरूरी होता है. इससे मांसपेशियां काफी मजबूत हो जाती हैं. इसके साथ ही शारीरिक कमजोरी नहीं आती है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के मुताबिक अगर स्वस्थ रहना है और बीमारी से बचना है कि लाइफ स्टाइल में फिजिकल एक्टिविटी को बढ़ाना होगा. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक गर्भवती महिलाओं, जिनकी डिलीवरी हो चुकी उन महिलाओं को भी एक जगह बैठे रहने से बचना चाहिए.विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के मुताबिक जो लोग बिल्कुल भी व्यायाम नहीं करते और फिजिकली एक्टिव नहीं रहते उन्हें कई तरह की बीमारियों का खतरा रहता है. लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठकर काम करने वाले लोगों को कैंसर, हार्ट और डायबिटीज की बीमारी हो सकती है. ऐसे में यदि आपको स्वस्थ रहना है तो ज्यादा देर तक बैठे रहने की आदत को कम करना होगा. फिजिकल एक्टिविटी पर ध्यान देना होगा.

Check Also

कोर्ट ने दी सुरक्षा फिर भी पिता ने कर दी बेटी की हत्या, लड़की ने दलित लड़के के साथ की थी शादी

जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan)में 18 साल की एक लड़की का दलित लड़के के साथ …