चिप की कमी से ऑटो इंडस्ट्री संकट में, गाड़ियों की बिक्री में आई 41फीसदी की गिरावट

नई दिल्ली (New Delhi) . देश में सेमीकंडक्टर (चिप) की कमी से ऑटो इंडस्ट्री संकट में आ गई है. इसके कारण गाड़ियों की बिक्री में 41फीसदी की गिरावट आ गई है. चिप संकट अब भयानक रूप लेता जा रहा है. इसकी वजह से ऑटो इंडस्ट्री की सेल पर फेस्टिव सीजन में ग्रहण लगता दिख रहा है. देश में गाड़ी बनाने वाली कंपनियों के संगठन सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) ने गुरुवार (Thursday) को अपने सितंबर के सेल्स आंकड़े जारी किए. ये आंकड़े काफी डराने वाले हैं.इनके मुताबिक सितंबर में सभी ऑटो मोबाइल कंपनियों ने 1,60,070 पैसेंजर व्हीकल की बिक्री की है. ये पिछले साल कोरोना के बावजूद सितंबर में हुई 2,72,027 पैसेंजर व्हीकल की बिक्री से 41.2फीसदी कम है. सियाम का कहना है कि डोमेस्टिक मार्केट में भी पैसेंजर व्हीकल की सेल अगस्त के मुकाबले सितंबर में 30.7 फीसदी गिरी है.

पैसेंजर व्हीकल के अलावा 2-व्हीलर सेगमेंट में भी कंपनियों की बिक्री गिरी है. सितंबर में यह पिछले साल के मुकाबले 17 फीसदी कम रही. वहीं कंपनियों का प्रोडक्शन भी गिरा है. देश की सबसे बड़ी 2-व्हीलर कंपनी हीरो मोटोकॉर्प का उत्पादन सितंबर में सालाना आधार पर 32 फीसदी, रॉयल इनफील्ड का 62 फीसदी, टीवीएस का 1.4फीसदी और बजाज ऑटो का 5फीसदी गिरा है. वहीं पैसेंजर व्हीकल का कुल प्रोडक्शन सालाना आधार पर 37.5 फीसदी और 2-व्हीलर्स का 17 फीसदी कम हुआ है. भारत में गणेश चतुर्थी के आसपास से लोगों में नई गाड़ी खरीदने को लेकर रुझान देखा जाता है. वहीं नवरात्रि में फेस्टिव सीजन शुरू होने पर ये रुझान अपने चरम पर होता है. तभी कई कंपनियां इस सीजन में अपनी नई गाड़ियों और मॉडल की लॉन्चिंग करती हैं. लेकिन पिछले साल कोविड और इस साल चिप के संकट की वजह से अभी तक बाजार में त्योहारी खरीद देखने को नहीं मिल रही है. ऐसे में अगर चिप का संकट और गहराता है तो इस बार त्यौहारी सीजन फीका रहने की आशंका है. वैसे भी सितंबर के बिक्री आंकड़े काफी डराने वाले हैं.
 

Check Also

विटोल ने सन मोबिलिटी में 370 करोड़ निवेश किया

नई दिल्ली (New Delhi) . इलेक्ट्रिक वाहन ऊर्जा अवसंरचना कंपनी सन मोबिलिटी ने बुधवार (Wednesday) …