Type 2 Diabetes को न लें हल्‍के में, दिल पर पड़ने लगता है इसका असर

नई दिल्ली (New Delhi) . टाइप-2 डायबिटीज के लक्षणों को हल्के में ना ले. इससे मरीज के शरीर में ब्लड शुगर का लेवल इतना ज्यादा हो जाता है कि इसे नियंत्रित करने मुश्किल होता है. टाइप 2 डायबिटीज का अभी तक कोई पुख्‍ता इलाज नहीं खोजा जा सका है, लेकिन अपने लाइफस्‍टाइल और खाने पीने की आदतों में बदलाव करके इसे बेहतर जीवन गुजार सकते हैं. ऐसे में जरूरी है कि डायबिटीज के लक्षणों की जानकारी हो, क्‍योंकि अगर इसके शुरुआती लक्षण पता चल गए तो इसे शुरुआत में ही नियंत्रित किया जा सकता है. इसको शरीर में आने वाले कुछ बदलावों के जरिये समझा जा सकता है. ऐसे में शरीर में इसके कुछ लक्षण दिखाई दे सकते हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक इसका एक अहम लक्षण यह हो सकता है कि मुंह सूखा हुआ महसूस हो और मुंह से बदबू भी आए. कई बार मुंह से बदबू आने का कारण दांतों का ठीक से साफ न किया जाना या अन्‍य कोई कारण भी हो सकता है, लेकिन कई बार यह टाइप 2 डायबिटीज का संकेत भी हो सकता है, इसलिए इसे हल्‍के में नहीं लिया जाना चाहिए. कई बार ऐसा होता है कि आप अच्‍छी तरह पानी पी चुके होते हैं मगर इसके बावजूद मुंह में सूखापन महसूस होता है. इसे भी हल्‍के में न लें. यह डायबिटीज के लक्षणों में से एक हो सकता है. साथ ही अगर आपको बार बार पेशाब लगता है और रात को उठ कर बार बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है, तो इसे भी हल्‍के में नहीं लेना चाहिए. यह भी डायबिटीज का संकेत हो सकता है.

अगर आपको अपने शरीर में पहले की तरह फुर्ती नजर नहीं आती और थकान और आलस महसूस होता है, तो यह भी इसका लक्षण हो सकता है. इसके अलावा टाइप 2 डायबिटीज में शरीर का वजन कम होने लगता है और आप जो खाते हैं उसका असर भी शरीर पर नजर नहीं आता. इसके अलावा आंखों में धुंधलापन नजर आए या अन्‍य कोई समस्‍या हो तो डॉक्‍टर से जरूर संपर्क करें. साथ ही इन लक्षणों को नजरअंदाज न करें और अपना ब्‍लड शुगर जरूर चेक कराते रहें. इस बीमारी का का असर दिल पर पड़ने लगता है और इससे संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. इसमें शरीर में इंसुलिन बनना भी कम हो जाता है. इसके लक्षण भी जल्‍दी नजर नहीं आते.

Check Also

महाराष्ट्र में फिर मिले कोरोना के 8 हजार से ज्यादा मरीज

मुंबई (Mumbai) . महाराष्ट्र (Maharashtra) में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8623 नए …