संकटग्रस्त बैंकों के जमाकर्ता 30 नवंबर से प्राप्त कर सकेंगे 5 लाख रुपए तक की जमा राशि

नई दिल्ली (New Delhi) . संकटग्रस्त बैंकों के खातेदारों को राहत देते हुए केंद्र सरकार (Central Government)ने जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) कानून को अधिसूचित कर दिया है. इससे पंजाब (Punjab) एंड महाराष्ट्र (Maharashtra) को-आपरेटिव (पीएमसी) बैंक (Bank) जैसे दबाव वाले बैंकों के ग्राहकों को 30 नवंबर से 5 लाख रुपए तक की जमा मिलने की गारंटी मिल जाएगी. संसद ने जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (संशोधन) विधेयक, 2021 इस महीने की शुरूआत में पारित कर दिया था. इसके जरिए यह सुनिश्चित किया गया है कि आरबीआई (Reserve Bank of India) द्वारा किसी बैंक (Bank) के कामकाज पर रोक लगाए जाने के 90 दिन के भीतर बैंक (Bank) के जमाधारकों को 5 लाख रुपए तक की जमा रकम मिल जाए. यह राशि जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम उपलब्ध कराएगा. इस महीने 27 तारीख को राजपत्र में प्रकाशित अधिसूचना के अनुसार सरकार ने कानून के प्रावधान अमल में आने की तारीख एक सितंबर, 2021 अधिसूचित की है.

इसमें कहा गया है, ‘जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (संशोधन) कानून, 2021 की धारा 1 की उपधारा (दो) के तहत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए केंद्र सरकार (Central Government)कानून के सभी प्रावधानों के अमल में आने की तारीख एक सितंबर, 2021 तय करती है.’ यानी इसके हिसाब से जमाकर्ताओं के लिये कोष प्राप्त करने की 90 दिन की अवधि 30 नवंबर, 2021 है. इस कानून के तहत उन 23 सहकारी बैंक (Bank) के जमाकर्ता भी आएंगे, जो वित्तीय दबाव में हैं और जिन पर रिजर्व बैंक (Bank) ने कुछ पाबंदियां लगायी हुई है. डीआईसीजीसी आरबीआई (Reserve Bank of India) की पूर्ण अनुषंगी है. यह बैंक (Bank) जमा के लिए बीमा उपलब्ध कराता है. वर्तमान में जमाकर्ताओं को वित्तीय रूप से दबाव वाले बैंकों से अपनी बीमा राशि और अन्य दावा प्राप्त करने में 8 से 10 साल लग जाते हैं.

Check Also

बजाज फाइनेंस का मुनाफा 53 प्रतिशत बढ़कर 1,481 करोड़

नई दिल्ली (New Delhi) . बजाज फाइनेंस का मुनाफा सितंबर में समाप्त चालू वित्त वर्ष …