8000 मृतकों की अस्थियां विसर्जित कर चुके दिपक वलेचा, अपनी जमापूँजी से किया अबतक 5 लाख रुपये खर्च


उल्हासनगर, . हमारे समाज में किसी की मृत्यु हो जाये, अग्निसंस्कार के लिये जल्दबाजी करते लोग हमें देखने को मिलते हैं. जिसके साथ जीवनभर रहते हैं उसकी मृत्यु पश्चात उसके संस्कार के लिये एक दिन भी निकालना आजके समय में भारी पड़ जाता है. वहीं ऐसे लोग जो लावारिस हो, जिनकी अस्थियों का विसर्जन करने में परिवारजन असमर्थ हों ऐसे 8000 मृतकों की अस्थियों का विसर्जन महाराष्ट्र (Maharashtra) के नासिक में बहने वाली गोदावरी नदी में अपनी जेब से अपनी नौकरी की जमापूँजी में से 5 लाख रुपये खर्च कर चुके उल्हासनगर मनपा के पीडब्ल्यूडी विभाग के कर्मचारी दीपक वलेचा को आप क्या कहेंगे ?

जिस दिपक वलेचा को उल्हासनगर के विधायक, महापौर समेत कई सामाजिक संगठनों तथा अख़बारों ने उनके बारे में सम्मान प्रकट किया, परंतु उनको अपने इस महान कार्य से फुर्सत नहीं है. इस काम की कोई उनके पास तस्वीरें नहीं, ऐसे दिपक वलेचा को आप क्या कहेंगे ? अगर कोई लावारिस मृतक हों, या मजबूरीवश परिवारजन अस्थि विसर्जन ना कर पाते हों, ऐसे मृतकों की अस्थियां मुझे लाकर दो, मैं उन्हें सम्मानपुर्वक विसर्जित करूंगा. मुंबई (Mumbai) से सटे उल्हासनगर की श्मशान भूमियों में स्टिकर चिपका कर ऐसी अपील करने वाले दिपक वलेचा को आप क्या कहेंगे ? बहरहाल पिछले 15 सालों से बिना किसी से कोई सहायता लिए अपनी जेब से 5 से 7 लाख रुपये खर्च कर 7 से 8 लावारिस मृतकों की अस्थियों का विसर्जन नासिक स्थित गोदावरी नदी में अंजान मृतकों की आत्मा शांति के लिये विधिवत पुजापाठ करवाके अस्थियों का विसर्जन दिपक वलेचा करवा चुके हैं.

Check Also

केवल जरूरी मामलों की अदालत में होगी सुनवाई : हाईकोर्ट

नई दिल्ली (New Delhi) . राजधानी में कोरोना संक्रमण के बेतहासा बढ़ोतरी को देखते हुए …