CRPF के जवान ने मचाया उत्पात, सुरक्षा गार्ड, पुलिसकर्मियों व सीआरपीएफ के जवानों ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद पाया काबू

उदयपुर (Udaipur). महाराणा भूपाल चिकित्सालय के वार्ड नं. 116 में सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के जवान को मानसिक दौरा पडऩे पर उसने वार्ड में जमकर उत्पात मचाया. इससे वार्ड में अफरा-तफरी का माहौल बन गया. जवान पर काबू पाने के लिए सुरक्षा गार्ड, पुलिस (Police)कर्मियों एवं तीन सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के जवानों को करीब डेढ़ घंटे तक की मशक्कत करनी पड़ी. इस दौरान एक सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) का जवान घायल हो गया.

मिली जानकारी के अनुसार बिहार (Bihar) निवासी सुनिल कुमार (42) सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) नीमच केंट में 114 बटालियन सीआरपीएफ-4 श्रीनगर (Srinagar) से एचसीपीसी कॉर्स सीटीसी करने के लिए सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के नीमच केंट आया हुआ था. सोमवार (Monday) शाम को उसकी तबियत बिगडऩे पर उसे नीमच केंट से उदयपुर (Udaipur) एम.बी. चिकित्सालय भेज दिया. जहां आपातकालीन इकाई में चिकित्सकों ने उसे देखकर कोरोना संदिग्ध मानते हुए वार्ड नं. 116 में भर्ती करा दिया, जहां पर मंगलवार (Tuesday) सुबह करीब साढ़े 11 बजे जवान सुनिल कुमार को मानसिक दौरा पड़ा और उसने वार्ड में भर्ती अन्य मरीजों के साथ मारपीट करते हुए उत्पात मचाना शुरू कर दिया.

जवान के अचानक उत्पात मचाने से पूरे वार्ड में अफरा-तफरी मच गई और वहां मौजूद लोक सकते में आ गए. यही नहीं जवान ने वार्ड के शीशों के कांच फोड़ दिए, स्ट्रेचर तोड़ दिए. इस बीच सूचना मिलने पर अस्पताल चौकी से कांस्टेबल सज्जन सिंह तुरन्त वार्ड में पहुंचे लेकिन सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) जवान के तांडव को देखते हुए उन्होंने हाथीपोल थाने पर सूचना दी. सूचना मिलने पर एएसआई हिम्मत सिंह व अन्य पुलिस (Police) जाब्ता वहां आया, लेकिन तब तक सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के जवान का तांडव चरम पर पहुंच गया था. वार्ड में चारों तरफ सामान बिखरा पड़ा था और अधिकांश खिड़कियों के कांच टूटे हुए थे. सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के तीन जवानों ने करीब चार-पांच पुलिस (Police)कर्मियों व हॉस्पीटल के गार्डों के सहयाग से डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद जवान पर काबू पाया और उसके हाथ-पैर को रस्सियों से बांध दिया और उसे कड़ी सुरक्षा के बीच मानसिक वार्ड में ले जाया गया. जहां पर डॉ. सुशील खेराड़ा के नेतृत्व में चिकित्सकीय टीम ने सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) केे जवान को तुरन्त इंजेक्शन लगा कर काबू में किया और उसका उपचार शुरू कर दिया.

बताया गया है कि कल उसे नीमच से उदयपुर (Udaipur) लाते समय गाड़ी में बिठाने से पहले भी उसने वहां जमकर उत्पात मचाया था और गाड़ी से भी उतर कर भागने लगा था, लेकिन सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के जवानों ने मुस्तैदी से उसे काबू में किया और उदयपुर (Udaipur) में इलाज के लिए लाए. इस बीच वार्ड में बेड पर सोये मरीजों के साथ मारपीट से मरीज और उनके तिमारदार और वार्ड में मौजूद मेडिकल स्टाफ में अफरा-तफरी मच गई और जवान की हरकत देख उसे पकडऩे का प्रयास किया, लेकिन वह काबू में नहीं आया और उत्पात मचाता रहा. ऐसे में गुस्साए मरीजों व तिमारदारों ने सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के जवान की धुनाई भी कर दी. मनोरोग वार्ड में भर्ती किए जाने के बाद सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) केे जवान व सिक्यूरिटी गार्ड की निगरानी में ट्रेनी जवान सुनिल कुमार का इलाज किया जा रहा है.

Check Also

राजस्थान में चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में शामिल किया गया ब्लैक फंगस का इलाज

जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan)सरकार ने ब्लैक फंगस बीमारी को प्रदेश में लागू ‘मुख्यमंत्री (Chief …