कॉइनस्विच कुबेर ने 26 करोड़ डॉलर जुटाए

मुंबई (Mumbai) . कॉइनस्विच कुबेर ने विभिन्न निवेशकों से 26 करोड़ डॉलर (Dollar) (लगभग 1,943 करोड़ रुपए) जुटाए हैं. नियामक द्वारा क्रिप्टो करेंसी को लेकर जताई गई चिंता के बावजूद कॉइनस्विच कुबेर अपनी प्रमुख प्रतिद्वंद्वी कंपनी कॉइनडीसीएक्स के बाद यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल करने वाला दूसरा क्रिप्टो एक्सचेंज बन गई है. यूनिकॉर्न से आशय ऐसी स्टार्टअप कंपनी से है जिसका मूल्यांकन एक अरब डॉलर (Dollar) से अधिक होता है. कॉइनस्विच कुबेर ने कहा कि उसने आंद्रेसेन होरोविट्ज़ (ए16जेड), कॉइनबेस वेंचर्स और मौजूदा निवेशकों पैराडिगम, रिबिट कैपिटल, सिकोया कैपिटल इंडिया और टाइगर ग्लोबल से यह पैसा जुटाया है. कंपनी के अनुसार आंद्रेसेन होरोविट्ज़ एक उद्यम पूंजी कंपनी है जो प्रौद्योगिकी के माध्यम से भविष्य का निर्माण करने वाले साहसिक उद्यमियों का समर्थन करने के लिए जानी जाती है. वही कॉइनबेस क्रिप्टो अर्थव्यवस्था बनाने से संबंधित शुरुआती कंपनियों में से है और दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंजों में से एक का संचालन करती है. कॉइनस्विच ने कहा कि इस राशि का इस्तेमाल वह घरेलू बाजार में क्रिप्टो का एक नाम बनाने के साथ-साथ देश में क्रिप्टो उद्योग के बारे लोगों को समझाने के लिए करेगी. इसमें इंजीनियरिंग, उत्पाद, डेटा और विशेषज्ञों को नियुक्त करना भी शामिल है. उल्लेखनीय है भारतीय रिज़र्व बैंक (Bank) ने पहले भी कई बार बिटकॉइन जैसी निजी क्रिप्टोकरेंसी के बारे में चिंता व्यक्त की है और सरकार को इस बारे में अवगत कराया है.

Check Also

सोने , चांदी की कीमतों में गिरावट

नई दिल्ली (New Delhi) . घरेलू बाजार में बुधवार (Wednesday) को सोने, चांदी (Silver) की …