लोकतंत्र में सरकारे जिद्दि नहीं हो सकती-सीएम गहलोत


जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan)में चार विधानसभा उपचुनाव की घोषणा अभी नहीं हुई है पर कांग्रेस ने तथाकथित पार्टी में गहलोत पायलट गुट में दूरियां अब नहीं रही है जिसके पीछे चारो विधानसभा क्षेत्रों वल्लभनगर,राजसमंद, सहाडा, सुजानगढ़ के उपुचनाव जीतने की रणनीति को एक ही हेलिकॉप्टर में मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot), प्रदेश प्रभारी अजय माकन, प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने उड़ान भरकर बीकानेर के श्रीडंूगरगढ़, चित्तौडगढ़ के मातृकुण्डिया में किसान सम्मेलन को सम्बोधित किया.

किसान सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि लोकतंत्र में किसी भी सरकार की जिद्दि प्रवृति और तानाशाही प्रवृति नहीं चलती उन्होने किसानों के दिल्ली में चल रहे करीब 90 दिन के आंदोलन का हवाला देते हुए कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार तीनों कानूनों को किसान नामंजूर कर रहे है पर मोदी सरकार को कानून वापसी पर हठधर्मिता छोडनी चाहिए. उन्होने अपने और पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) वसुंधरा राजे के कार्यकाल में हुए गुर्जर आंदोलन का हवाला देते हुए कहा कि भाजपा शासन में आंदोलन पर गोलियां भी चली पर हमारे शासन में भी आंदोलन हुए पर किसी में भी गोलियां नहीं चलाई गई.

इस अवसर पर पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने भी किसानों के हित में बोलते हुए कहा कि किसानों पर केन्द्र सरकार ज्यादती कर रही है जो लोकतंत्र में न्यायोचित्त नहीं है. प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने भी अपने सम्बोधन में कहा कि भारतीय जनता पार्टी की मानसिकता में खोट है और यह खोट वर्गविभाजन की ओर ले जाती है. प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने भी दिल्ली से लेकर किसान महापंचायतों के द्वारा केन्द्र सरकार पर तीनों काले कानून रद्द करने के लिए किए जा रहे आंदोलन को अपनी बात सरकार के कानों तक रखने का लोकतांत्रिक तरीका बताया कहा कि केन्द्र सरकार किसानों को एक तरफ अन्नदाता सम्बोधित कर रही है तो दूसरी ओर उन्हें उनकी बात ना मानकर उनका अनादर कर रही है.

 

 

Check Also

70 साल की सरकार की मेहनत पर पानी फेरते हुए देश वैक्सीन का निर्यातक से आयातक बन गया – प्रियंका

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर कांग्रेस नेता प्रियंका और …