चीनी शोधकर्ताओं ने क्वांटम कंप्यूटिंग के क्षेत्र में हासिल की बड़ी सफलता

Photo of author

बीजिंग, 16 मई . चीन विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में अहम भूमिका निभा रहा है. वैश्विक स्तर पर नए आविष्कारों और शोधों में चीन का योगदान अहम माना जाता है. समय-समय पर चीनी वैज्ञानिक जटिल चुनौतियों को सुलझाने में सफलता हासिल करते हैं. हाल में ही इसी तरह की एक बड़ी कामयाबी चीनी शोधकर्ताओं के हाथ लगी है.

बताया जा रहा है कि चीनी शोधकर्ताओं ने फोटॉन का इस्तेमाल कर एक जटिल क्वांटम स्थिति का अनुकरण कर क्वांटम कंप्यूटिंग की क्षमता को अनलॉक करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है.

चीन के आन्ह्वेई प्रांत के हफेई में चीनी विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने एक अहम कार्य कर दिखाया है. जिसके तहत उन्होंने फोटॉनों के साथ आंशिक क्वांटम विसंगतिपूर्ण हॉल स्टेट को सफलतापूर्वक महसूस किया.

माना जा रहा है कि यह उपलब्धि पहले वैज्ञानिकों ने सिर्फ विशेष परिस्थितियों में इलेक्ट्रॉनों में देखी थी. चीनी वैज्ञानिकों द्वारा हासिल कामयाबी वाला यह शोध पिछले दिनों में साइंस जर्नल में प्रकाशित हुआ था.

गौरतलब है कि भिन्नात्मक क्वांटम हॉल स्टेट को पहली बार वर्ष 1981 में खोजा गया था. जो कि एक मजबूत चुंबकीय क्षेत्र के तहत एक विशेष सामग्री में इलेक्ट्रॉनों के व्यवहार से उत्पन्न होती है. ऐसी घटना का अवलोकन करना संघनित पदार्थ भौतिकी अनुसंधान का एक प्रमुख लक्ष्य रहा है.

चीनी विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर लू छावयांग और प्रोफेसर फान च्यानवेइ के नेतृत्व में एक शोध दल ने एक छोटी चिप पर 16 सूक्ष्म फोटॉन बॉक्स का एक सिस्टम तैयार किया. जिसमें प्रत्येक बॉक्स के भीतर एक फोटॉन को सीमित किया गया. क्वांटम सिमुलेशन के लिए इस नवीन दृष्टिकोण ने उन्हें कृत्रिम रूप से वांछित क्वांटम स्थिति बनाने में मदद दी.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, यह तकनीक जिसे क्वांटम सिमुलेशन के रूप में जाना जाता है, दूसरी क्वांटम क्रांति का एक प्रमुख घटक है और निकट भविष्य में क्वांटम कंप्यूटिंग के क्षेत्र में काम आने की उम्मीद है.

यह माना जाता है कि क्वांटम सिमुलेशन जटिल क्वांटम सिस्टम को समझने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण प्रदान करता है. जिससे आने वाले दिनों में क्वांटम सूचना प्रसंस्करण में प्रगति हासिल हो सकती है.

प्रोफेसर फान च्यानवेइ कहते हैं कि, हम मांग और डिजाइन के अनुसार परमाणुओं को जोड़ सकते हैं, इस तरह दुनिया को समझने का एक बिल्कुल नया तरीका मिल सकता है. यह दृष्टिकोण निचले स्तर से सक्रिय रूप से क्वांटम मशीनों का निर्माण करने में सहायक होगा. जो नई प्रौद्योगिकी के विकास में अहम योगदान देगा.

(अनिल पांडेय, चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)