कोरोना से उबर चुके मरीजों में दिख रहे हडडियां गलने के मामले

पुणे (Pune) . कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद भी इसका असर मरीजों का पीछा नहीं छोड़ रहा है.हाल ही में पुणे (Pune) में मिले कुछ नए मामलों ने जानकारों की चिंता को बढ़ा दिया है.ठीक हो चुके मरीजों में नया फंगल इंफेक्शन को देखा गया है, जो मरीज के रीढ़ की हड्डियों को गंभीर नुकसान पहुंचा रहा है. इससे पहले भी म्यूकरमाइकोसिस नाम का एक संक्रमण सामने आया था, जो कोविड से ठीक हो चुके मरीजों के लंग्स और साइनस को प्रभावित कर रहा था.नए फंगल इंफेक्शन का मामला तब सामने आया, जब 66 वर्षीय एक मरीज ने कोविड से उबरने के एक महीने बाद हल्के बुखार और कमर में तेज दर्द की शिकायत की थी.शुरुआत में मरीज का इलाज दवाओं के जरिए किया गया, लेकिन बाद में एमआरआई स्कैन किया गया, तब पता चला कि एक गंभीर संक्रमण का कारण बना है. मेडिकल भाषा में कहे जा रहे फंगल इंफेक्शन का पता लगाना मुश्किल है, क्योंकि यह टीबी की तरह लगता है. ऐसा फंगल इंफेक्शन कोविड से उबर चुके मरीजों के मुंह में पाया जाता है और दुर्लभ मामलों में इसकी मौजूदगी फेफड़ों में भी होती है. रिपोर्ट के मुताबिक,मामलों के बारे में डॉक्टर (doctor) ने बताया कि अब तक एसप्रगुलियस फंगी के कारण हुए वेटेब्रलर आइटोमाइटोवियस को तीन महीनों में चार मरीजों में देखा गया है. भारत में कोविड से उबर चुके मरीजों में वेटेब्रलर आइटोमाइटोवियस नहीं दर्ज किया गया था.

सभी चारों मामलों में एक बात समान थी कि ये कोविड से गंभीर रूप से बीमार थे और कोविड के चलते हुए निमोनिया और संबंधित परेशानियों के लिए इन्हें स्टेरॉयड्स दिए गए थे.इससे पहले कोलकाता (Kolkata) में कोविड को हराने वाले कई लोगों की आवाज प्रभावित होने के मामले भी दिखाई दिए थे.

Check Also

रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली पुलिस (Police) ने रेलवे (Railway)में नौकरी दिलाने के नाम …