बंगाल में लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में 32 प्रतिशत बढ़ेगी सीएपीएफ की तैनाती

Photo of author

कोलकाता, 14 मई . सोमवार को लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के दौरान पश्चिम बंगाल के विभिन्न इलाकों से सामने आ रही तनाव की खबरों को देखते हुए भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने 20 मई को होने वाले पांचवें चरण के मतदान में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) कर्मियों की तैनाती को लगभग 32 प्रतिशत बढ़ाने का निर्णय लिया है.

पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) के कार्यालय के सूत्रों ने कहा कि सोमवार को पश्चिम बंगाल में सीएपीएफ की 578 कंपनियां तैनात की गईं और पांचवें चरण में 31.83 प्रतिशत की वृद्धि के साथ यह संख्या 762 हो जाएगी.

सूत्रों ने कहा कि राज्य में पांचवें चरण में मतदान के लिए निर्वाचन क्षेत्रों की संख्या चौथे चरण की तुलना में थोड़ी कम है. इसके बावजूद यहां सीएपीएफ की अतिरिक्त तैनाती की जा रही है.

चौथे चरण में जहां आठ निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान हुआ, वहीं पांचवें चरण में यह संख्या सात है.

ये सात निर्वाचन क्षेत्र हुगली जिले में सेरामपुर, हुगली और आरामबाग, उत्तर 24 परगना जिले में बैरकपुर और बनगांव और हावड़ा जिले में हावड़ा और उलुबेरिया हैं.

इन सात निर्वाचन क्षेत्रों में से बैरकपुर और बनगांव अलग-अलग कारणों से चुनाव आयोग की विशेष निगरानी में होंगे.

जबकि बनगांव भारत-बांग्लादेश सीमावर्ती निर्वाचन क्षेत्र है. वहीं, बैरकपुर में चुनाव संबंधी हिंसा और तनाव का इतिहास रहा है.

सीईओ कार्यालय के एक सूत्र ने कहा, ”यह चरणबद्ध तरीके से तैनात की जाने वाली सीएपीएफ की कंपनियों की संख्या बढ़ाने की आयोग की योजना के अनुरूप है.”

पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने सोमवार को मतदान के अंत में कहा कि अगले चरण के चुनाव में ईसीआई द्वारा सुरक्षा घेरा कड़ा कर दिया जाएगा.

अधिकारी ने कहा, “अगर चुनाव आयोग ने इसी तरह की सुरक्षा व्यवस्था बरकरार रखी तो अगले चरण का चुनाव तृणमूल कांग्रेस के लिए और ज्यादा परेशानी से भरा होगा.”

एमकेएस/