ब्रिटेन ने भारत की कोविशील्ड को मान्यता दी

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत की सख्त जवाबी कार्रवाई के बाद ब्रिटेन ने कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता दे दी है. अब भारत से गए टीकाकृत लोगों को ब्रिटेन में क्वॉरन्टीन में नहीं रहना होगा.भारत और ब्रिटेन के बीच आखिरकार कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर जारी विवाद पर विराम लग गया है. ब्रिटेन ने इस वैक्सीन को मंजूरी दे दी है और अब कोविशील्ड की दोनों खुराक पाए भारतीयों को ब्रिटेन में क्वारंटीन में नहीं रहना होगा. भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त ने गुरुवार (Thursday) को बताया कि 11 अक्टूबर से ब्रिटेन आने वाले उन भारतीयों को क्वारंटीन में नहीं रहना होगा जो कोविशील्ड की दोनों खुराक ले चुके हैं. भारत के वैक्सीन-वीर ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने एक ट्वीट कर कहा, कोविशील्ड या यूके द्वारा मंजूर अन्य किसी वैक्सीन की दोनों खुराक पाए भारतीय यात्रियों (Passengers) को 11 अक्टूबर से क्वारंटीन नहीं करना होगा.” कई दिन चला विवाद दोनों देशों के बीच कोविशील्ड को लेकर कई दिनों से विवाद चल रहा था. जब पिछले महीने जब ब्रिटेन ने अपनी सीमाएं खोलीं तो पूरी तरह टीकाकृत लोगों को क्वॉरन्टीन से छूट दे दी गई. लेकिन कोविशील्ड को मान्यता नहीं दी, जो भारत में इस्तेमाल की जा रही है. ब्रिटेन के इस फैसले की तीखी आलोचना हुई और भारत में उसे साम्राज्यवादी तक कहा गया. भारत ने ब्रिटेन की इस नीति पर आपत्ति जताई. भारत के विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने ब्रिटिश नीति को भेदभावपूर्ण बताते हुए जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी थी. 1 अक्टूबर को जवाबी कार्रवाई करते हुए ब्रिटेन से आने वाले हर यात्री पर पर 10 दिन का अनिवार्य क्वारंटीन लागू कर दिया, फिर चाहे उसने वैक्सीन ली हो ना नहीं. इसी हफ्ते भारत ने अपनी हॉकी टीमों को कोविड का खतरा बताते हुए अगले साल बर्मिंगम में होने वाले कॉमनवेल्थ खेलों में भेजने से इनकार कर दिया था. दबाव काम आया बढ़ते दबाव के बीच गुरुवार (Thursday) को ब्रिटेन ने आखिरकार नीति में बदलाव की घोषणा की.

ब्रिटेन परिवहन मंत्री ग्रांट शैप्स ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा, “मैं ऐसे बदलाव कर रहा हूं कि ब्रिटेन आने वाले यात्रियों (Passengers) के लिए शर्तें कम हों. भारत, तुर्की और घाना समेत 37 नए देशों और क्षेत्रों में टीका लगवाए लोगों को मान्यता मिलेगी और उन यात्रियों (Passengers) को ब्रिटेन में पूरी तरह टीकाकृत माना जाएगा.” जानें, वैक्सीन काम करती है ब्रिटिश उच्चायोग के एक प्रवक्ता ने गुरुवार (Thursday) को एक बयान जारी कर इसकी पुष्टि की कि भारत के लोगों पर ब्रिटेन में पाबंदियां नहीं होंगी. उन्होंने कहा, “हमारे मंत्रालयों के बीच करीबी तकनीकी सहयोग के बाद लोगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए यह फैसला किया गया.” प्रवक्ता ने कहा कि ब्रिटेन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैक्सीन के प्रभाव से जुड़ी सूचनाएं और आंकड़ों की समीक्षा करता रहता है और अपने वीजा नियमों की हमने महामारी (Epidemic) के दौरान लगातार समीक्षा की है ताकि धीरे-धीरे सुरक्षित तरीके से यात्राओं को शुरू करते हुए सीमाएं खुली रखी जाएं. ब्रिटिश अधिकारियों ने मीडिया (Media) से कहा था कि मुद्दा वैक्सीन नहीं थी बल्कि भारत में वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जारी करने की प्रक्रिया थी और उच्च स्तर पर बातचीत होने के बाद दोनों देशों ने एक दूसरे के प्रमाण पत्रों को मान्यता दी है. कोविशील्ड पर विवाद ब्रिटेन से पहले यूरोपीय संघ के साथ भी कोविशील्ड को लेकर भारत का विवाद हो चुका है.

Check Also

किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा भ्रष्टाचार, देश को लूटने वाले कहीं हों छोड़ेंगे नहीं : मोदी

नई दिल्ली (New Delhi) . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कहा कि …