नई दिल्ली, 1 अप्रैल . भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दिल्ली के रामलीला मैदान में रविवार को इंडिया गठबंधन की रैली के दौरान राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लोकसभा चुनाव में ‘मैच फिक्सिंग’ करने का आरोप लगाए जाने के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए सोमवार को चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया.

चुनाव आयोग को दी गई अपनी शिकायत में भाजपा ने इसे आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन बताया और कहा कि राहुल गांधी ने ईवीएम की प्रामाणिकता और चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठाकर दुष्प्रचार किया.

पार्टी ने अपने आवेदन में कहा, “उनका झूठ पूरी तरह से देश के कानून और आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है.”

राहुल ने अरविंद केजरीवाल के प्रति समर्थन जुटाने के लिए 31 मार्च को रामलीला मैदान में इंडिया गइबंधन की रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला था और कहा था कि वह चुनाव को ‘फिक्स’ करने के लिए मैच फिक्सिंग कर रहे हैं.

यह दावा करते हुए कि देश के सबसे बड़े 3-4 उद्योगपति मैच फिक्सिंग में शामिल हैं, राहुल ने कहा कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो संविधान खत्म कर देगी और यह भी आरोप लगाया कि ‘ईवीएम को ‘फिक्स’ किए बिना ‘400 पार’ का आंकड़ा हासिल नहीं किया जा सकता.

भाजपा ने चुनाव आयोग को दी छह पन्नों की शिकायत में कहा, “राहुल की भड़काऊ टिप्पणियों का उद्देश्य चुनाव के बारे में लोगों के मन में संदेह और अविश्‍वास के बीज बोना था.”

पार्टी ने यह भी कहा कि इंडिया ब्लॉक रैली में राहुल का बयान जनता को गुमराह करने और देश की शांति और स्थिरता को बाधित करने के लिए झूठी कहानियां गढ़ने का एक जानबूझकर किया गया प्रयास था.

भाजपा ने मांग की कि चुनाव आयोग कांग्रेस नेता को उनके खिलाफ फर्जी और विकृत आरोप लगाने के लिए ईसीआई और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से बिना शर्त माफी मांगने का निर्देश दे.