बीजेपी कर्नाटक में गारंटी योजनाओं को विफल करने की कोशिश कर रही है: सीएम सिद्दारमैया – indias.news

बेंगलुरु, 11 फरवरी . कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने रविवार को आरोप लगाया कि भाजपा राज्य में गारंटी योजनाओं को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है.

यदि गारंटी योजनाओं पर कोई आपत्ति है तो भाजपा नेताओं को तुरंत अपना विरोध स्पष्ट रूप से बताना चाहिए और भाजपा शासित राज्यों में घोषणा करनी चाहिए कि सभी मौजूदा गारंटी योजनाएं बंद कर दी जाएंगी. सिद्धारमैया ने सवाल किया कि इसके बजाय, भाजपा नेता कर्नाटक में गारंटी योजनाओं को अस्थिर करने की कोशिश क्यों कर रहे हैं? क्या उनके मन में कर्नाटक के लोगों के प्रति नफरत है?

अब, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, जो कर्नाटक पहुंचे हैं, ने “गारंटी योजनाओं के कारण खजाना खाली है” कहकर राज्य सरकार के प्रति अपनी ईर्ष्या व्यक्त की है. उन्होंने कहा, “अगर यह अमित शाह की दृढ़ राय है, तो उन्हें मेरे साथ सार्वजनिक बहस में भाग लेना चाहिए.”

सिद्दारमैया ने कहा, “मैं साबित कर सकता हूं कि गारंटी योजनाओं के कारण हमारा खजाना खाली नहीं है; इसकी बजाय, केंद्र से राज्य को करों का अनुचित वितरण हो रहा है. यह अमित शाह के लिए भी एक चुनौती है.”

सीएम सिद्दारमैया ने कहा, “कर्नाटक के बारे में बात करते समय जो भाजपा नेता हमारे राज्य में गारंटी योजनाओं का विरोध करते हैं, उन्हीं गारंटी योजनाओं को उन राज्यों में लागू करने का वे वादा कर रहे हैं जहां उनका शासन है. हमारी गारंटी योजनाओं का विरोध करने वाले माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अब न केवल हमारी गारंटी योजनाओं बल्कि ‘गारंटी’ नाम को भी चुरा लिया है और उसी नाम से विज्ञापन कर रहे हैं. यह उस पार्टी के गरीब विरोधी रुख और बौद्धिक दिवालियापन को दर्शाता है.”

मुख्यमंत्री ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह, “जो हमारी गारंटी योजनाओं के खिलाफ बोलते हैं, कन्नडिगाओं के प्रति तिरस्कार दिखाते हैं. कन्नड़ झंडे का विरोध, हिंदी थोपने का प्रयास और नंदिनी के बजाय अमूल को फायदा पहुंचाने की साजिश ये सभी अमित शाह की उपलब्धियां हैं.”

एकेजे/