दो नई टीमों के आने से बीसीसीआई का भरेगा खजाना

मुम्बई (Mumbai) . भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने साल 2022 से होने वाले आईपीएल (Indian Premier League) के 15 सत्र के लिए दो टीमें बढ़ाने का जो फैसला किया है उससे बोर्ड पर पैसों की बरसात हो सकती है. दो नई टीमों से ही बोर्ड को करीब 20 हजार करोड़ रुपये मिल सकते हैं क्योंकि बीसीसीआई को एक नई फ्रेंचाइजी से ही 7 से 10 हजार करोड़ रुपए मिलने की उम्मीदें हैं. नई टीमों के लिए अगले सप्ताह से ही बोली प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

गौरतलब है कि अब तक 22 अलग-अलग कंपनियों ने बोली लगाने के लिए 10 लाख रुपए में टेंडर दस्तावेज खरीदे हैं हालांकि दो नई टीमों के लिए बीसीसीआई ने आधार मूल्य ही दो हजार करोड़ रुपए रखा है. ऐसे में 22 में 5-6 कंपनियां भी आखिरी दौर में टीमों की खरीदने की दौड़ में शामिल रहेंगी.

बीसीसीआई ने नई फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाने के लिए तीन कंपनियों या व्यक्तियों के एक संघ को भी अनुमति दी है हालांकि शर्त यह है कि किसी व्यक्ति या कंपनी के मामले में उस विशेष इकाई का सालाना टर्न ओवर कम से कम तीन हजार करोड़ रुपए होना जरूरी है और कंपनियों के समूहों के मामले में अलग से हर कंपनी का सालाना टर्नओवर 2500 करोड़ रुपए का होना चाहिए. ऐसे में गौतम अडानी और उनकी कंपनी अडानी ग्रुप अहमदाबाद (Ahmedabad) फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगाने की उम्मीद है. अगर अडानी समूह बोली लगाता है, तो अहमदाबाद (Ahmedabad) फ्रेंचाइजी खरीदने की दौड़ में वो सबसे आगे होंगे. ठीक इसी तरह, आरपीएसजी ग्रुप के मालिक संजीव गोयनका भी नई फ्रेंचाइजी के लिए बोली लगा सकते हैं हालांकि, यह अब तक साफ नहीं हो पाया है कि आरपीएसजी ग्रुप अकेले बोली लगाएगी या कंपनियों के समूह के साथ उतरेगी.
जिस तरह से आईपीएल (Indian Premier League) के प्रसारण अधिकार 36 हजार करोड़ रुपए में बिकने की उम्मीद जताई जा रही है उसे देखते हुए नई फ्रेंचाइजी की कीमत भी बढ़कर 3500 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है.

Check Also

विराट की वापसी के बाद साहा शुरु करें पारी : जाफर

मुम्बई (Mumbai) . पूर्व भारतीय बल्लेबाज वसीम जाफर ने कहा है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ …