बहरीन और भारत ने मिलकर किया चुनौतियों का सामना: ओम बिरला

बहरीन और भारत ने मिलकर किया चुनौतियों का सामना: ओम बिरला

लोक सभा अध्यक्ष ने मनामा, बहरीन में आयोजित 146वें आईपीयू सम्मेलन के दौरान कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय बैठकों में भाग लिया

मनामा(बहरीन), 11 मार्च । लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को मनामा में आयोजित 146वें आईपीयू सम्मेलन में अपने समकक्षों के साथ कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय बैठकों में भाग लिया।

इस दौरान ओम बिरला ने ऑस्ट्रेलिया के हाउस ऑफ रिप्रंजटेटिव्स के अध्यक्ष मिल्टन डिक, बांग्लादेश की संसद की अध्यक्ष डॉ शिरीन शरमीन चौधरी, मॉरीशस की नेशनल असेंबली के स्पीकर श्री सुरूजदेव फोकीर, ओमान सल्तनत की मजलिस-ए-शूरा के चेयरमैन महामहिम खालिद हिलाल नसीर अल मावली; बहरीन के काउंसिल ऑफ रिप्रजंटेटिव्स के अध्यक्ष महामहिम अहमद बिन सलमान अल मुस्लमान के साथ द्विपक्षीय बैठकों में भाग लिया।

नए आयामों को छू रहे हैं भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंध:

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आज मनामा, बहरीन में आयोजित आईपीयू की 146वीं सभा के अवसर पर ऑस्ट्रेलिया की प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष मिल्टन डिक के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। बिरला ने विश्वास व्यक्त किया कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच संसदीय संबंध दोनों लोकतंत्रों के बीच नियमित संसदीय संवाद से और मजबूत होंगे। डिक के व्यापक प्रशासनिक और संसदीय अनुभव की सराहना करते हुए बिरला ने उन्हें दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संसदीय संबंधों को मजबूत करने का श्रेय दिया।

बिरला ने दोनों देशों की लोकतांत्रिक विरासत का जिक्र करते हुए कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया लोकतांत्रिक व्यवस्था के जरिए अपने नागरिकों के सामाजिक-आर्थिक कल्याण की दिशा में काम कर रहे हैं। बिरला ने भारतीय संसद की बहुदलीय प्रणाली के संदर्भ में कहा कि भारतीय लोकतंत्र विविध दलों, दृष्टिकोणों और विचारधाराओं से समृद्ध और मजबूत होता है। उन्होंने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच अंतर-संसदीय संवाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों का एक महत्वपूर्ण घटक है।

जी20 में भारत की अध्यक्षता का उल्लेख करते हुए ओम बिरला ने आगामी जी20 और पी20 शिखर सम्मेलनों में ऑस्ट्रेलिया की सक्रिय भागीदारी पर विश्वास व्यक्त किया। इस अवसर पर बिरला ने विशेष रूप से पी20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए डिक को भारत आने का औपचारिक निमंत्रण भी दिया।

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथोनी अल्बनीज की भारत यात्रा के संबंध में बिरला ने कहा कि इन यात्राओं ने आपसी संबंधों को एक नई दिशा दी है, जिसके कारण भारत और ऑस्ट्रेलिया हिंद महासागर क्षेत्र में क्षेत्रीय शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए बड़े पैमाने पर सहयोग करते हैं।

भारत-बांग्लादेश में बढ़ रहा सहयोगः

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बांग्लादेश की संसद की अध्यक्ष डॉ शिरीन शरमीन चौधरी के साथ भी द्विपक्षीय बैठक की। बिरला ने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि हाल के वर्षों में बांग्लादेश और भारत के बीच हुए उच्चस्तरीय दौरों से दोनों देशों के सम्बन्ध सशक्त हुए हैं।

बिरला ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच सदैव सद्भाव और मैत्रीपूर्ण संबंध रहे हैं तथा भारत के लोग, सरकार और जनप्रतिनिधियों ने सदैव बांग्लादेश का समर्थन किया है। उन्होंने आगे कहा कि विगत वर्षों में, दोनों देशों के बीच सड़क, रेल, वायु, अंतर्देशीय जलमार्ग, तटीय शिपिंग, विद्युत, ऊर्जा एवं डिजिटल जैसे क्षेत्रों में संपर्क बढ़ रहा है। बिरला ने भारत को बांग्लादेश का प्रतिबद्ध विकास भागीदार बताते हुए विश्वास व्यक्त किया कि पारस्परिक आर्थिक सम्बन्धों को नई गति देने से दोनों देशों को लाभ मिलेगा। बिरला ने संसदीय संस्थाओं को लोकतांत्रिक शासन का महत्वपूर्ण स्तंभ बताया और दोनों देशों के बीच संसद स्तरीय नियमित संवाद को बढ़ावा देने पर ज़ोर दिया।

मॉरीशस-भारत के ऐतिहासिक संबंध और घनिष्ठ होंगेः

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने मॉरीशस की नेशनल असेंबली के स्पीकर सुरूजदेव फोकीर के साथ द्विपक्षीय बैठक की। बिरला ने कहा कि दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक काल से संबंध रहे हैं, जो समय के साथ और घनिष्ठ होते जा रहे हैं। उन्होंने दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के 75 वर्ष पूरे होने पर हर्ष व्यक्त किया।

ओमान शूरा के अध्यक्ष को दिया पी-20 में आने का न्योताः

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने ओमान सल्तनत की मजलिस-ए-शूरा के चेयरमैन, महामहिम खालिद हिलाल नसीर अल मावली, के साथ द्विपक्षीय बैठक की। चर्चा के दौरान भारतीय लोकतंत्र की विशेषता की चर्चा करते हुए बिरला ने कहा कि भारत में जनमत के आधार पर सहज रूप से सत्ता का स्थानांतरण होता है। उन्होंने इच्छा व्यक्त की कि दोनों लोकतान्त्रिक देशों के बीच परस्पर बहुआयामी सहयोग विकसित हो और आपसी संबंध और सशक्त हों। ओमान के साथ अपने विशेष संबंधों को देखते हुए भारत ने जी-20 सम्मेलन के लिए ओमान को एक सम्मानित अतिथि देश के रूप में विशेष रूप से निमंत्रण दिया है। उन्होंने आशा जताई कि अल मावली भारत में आयोजित किए जाने वाले नौवें पी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

बहरीन और भारत ने मिलकर किया चुनौतियों का सामनाः

सम्मेलन के दौरान भारत और बहरीन के काउंसिल ऑफ रिप्रजंटेटिव्स के अध्यक्ष महामहिम अहमद बिन सलमान अल मुस्लमान के साथ द्विपक्षीय बैठक की। इस अवसर पर बिरला ने हर्ष व्यक्त किया कि दोनों देशों ने कोरोना महामारी से निपटने में एक दूसरे का पूर्णतः सहयोग किया, जो गहन और मज़बूत द्विपक्षीय संबंधों को दर्शाता है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भविष्य में ऐसे आदान प्रदानों में वृद्धि होगी, जिससे दोनों देशों के बीच संबंध और घनिष्ठ होंगे।

बहरीन में रह रहे भारतीय समुदाय का उल्लेख करते हुए ओम बिरला ने कहा कि बहरीन भारतीयों के लिए पसंदीदा जगह है। उन्होंने आगे कहा कि वे भारतीय समुदाय की सुरक्षा, संरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करने के लिए बहरीन के नेतृत्व और सरकार को धन्यवाद देते हैं।

रिश्तों की डोर को मजबूत कर रहे प्रवासी भारतीयः

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने मनामा, बहरीन में भारतीय दूतावास द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रवासी भारतीय समुदाय से भी संवाद किया। भारत और बहरीन के द्विपक्षीय संबंधों का उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा कि दोनों देशों के आपसी घनिष्ठ संबंध मानवीय संवेदनाओं तथा सांस्कृतिक मूल्यों पर आधारित हैं। बिरला ने इस उपलब्धि का श्रेय प्रवासी भारतीयों के परिश्रम, निष्ठा, और उनकी कर्मशीलता को दिया और बहरीन के प्रति उनके योगदान की सराहना की।

बहरीन में भारतीय समुदाय को दोनों देशों के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी बताते हुए बिरला ने कहा कि भारतीय समुदाय बहरीन की कुल आबादी का लगभग एक चौथाई है। भारतीय समुदाय ने बहरीन में व्यापार, राजनीति, सामाजिक कार्य, विज्ञान, संस्कृति, आदि जीवन के सभी क्षेत्रों में महत्वपूर्ण और स्पष्ट छाप छोड़ी है।

/प्रभात