एंटीबॉडी उपचार ने कोविड-19 से मृत्यु के जोखिम को ‎‎किया कम

लंदन . इंजेक्शन के माध्यम से दिये गये एंटीबॉडी उपचार ने कोविड-19 (Covid-19) के प्रकोप या इस बीमारी से मृत्यु के जोखिम में महत्वपूर्ण तरीके से कमी दिखाई है. हल्के से मध्यम लक्षण वाले कोविड-19 (Covid-19) के ऐसे रोगियों को दिये गये उपचार की तुलना में ये परिणाम प्रभावी हैं जो अस्पताल में भर्ती नहीं हैं. यह कहना है ब्रिटिश-स्वीडिश बायोफार्मास्युटिकल कंपनी एस्ट्राजेनेका का. कंपनी ने कहा कि एजेडडी7422 के लिए टैकिल तृतीय चरण कोविड-19 (Covid-19) उपचार परीक्षण ने दिखाया है कि प्राथमिक लक्ष्य प्राप्त हुआ है. कंपनी ने कहा है कि इंजेक्शन से एजेडडी7442 की 600 मिलीग्राम की एक खुराक ने गंभीर कोविड-19 (Covid-19) होने या (किसी भी कारण से) मृत्यु होने के जोखिम को सात दिन या इससे कम अवधि के लिए लक्षण वाले अस्पताल में भर्ती नहीं किये गये रोगियों को दिये गये उपचार की तुलना में 50 प्रतिशत तक कम किया है. एजेडडी7442 को तीसरे चरण के आंकड़ों के साथ पहली दीर्घकालिक सक्रिय एंटीबॉडी बताया गया है.

एस्ट्राजेनेका के बायोफार्मास्युटिकल्स आरएंडडी के कार्यकारी उपाध्यक्ष मेने पंगालोज ने कहा, ‘एजेडडी7442, हमारे दीर्घकालिक सक्रिय एंटीबॉडी समुच्चय के लिए ये महत्वपूर्ण परिणाम कोविड-19 (Covid-19) की रोकथाम और उपचार दोनों में इस पद्धति के उपयोग के लिए साक्ष्यों को बढ़ाते हैं.’दिसंबर 2020 में ब्रिटिश स्वास्थ्य नियामक से मंजूरी मिलने के पहलेे ही ब्रिटिश ड्रग्स ग्रुप एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित कोविड-19 (Covid-19) वैक्सीन ने दावा किया था कि उन्होंने ‘जीत का फॉर्मूला’ हासिल कर लिया है.

Check Also

उत्तराखंड-कश्मीर में बर्फबारी से मैदानी इलाकों में सर्दी बढ़ी

नई दिल्ली (New Delhi) . उत्तराखंड और कश्मीर के पहाड़ों में बर्फबारी होने से मैदानी …