केरल में एक और सहकारी बैंक घोटाला आया सामने, सीपीआई (एम) नेता फरार

Photo of author

तिरुवनंतपुरम, 14 मई . केरल के कासरगोड में कराडका कृषक सहकारी समिति में 4.76 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का पता चला है. प्रवर्तन निदेशालय वामपंथियों द्वारा नियंत्रित दो सहकारी बैंकों में हुए घोटालेे की पहले ही जांच कर रहा है.

यह समिति सीपीआई (एम) के नियंत्रण में है और राज्य के सबसे उत्तरी जिले कासरगोड में इसकी बड़ी प्रतिष्ठा है.

मंगलवार को, सोसायटी के अध्यक्ष की शिकायत के बाद स्थानीय पुलिस हरकत में आई और इसके सचिव के. रथीसन, के खिलाफ मामला दर्ज किया. वह इलाके का सीपीआई (एम) का बड़ा नेता है.

रथीसन को निलंबित कर दिया गया है और वह फिलहाल फरार है.

पुलिस ने रथीसन को मामले में एकमात्र आरोपी बताया है. उस पर फर्जी नामों पर सोना लिए बिना स्वर्ण ऋण देने का आरोप है.

इस बीच, ऐसी खबरें सामने आई हैं कि रथीसन ने कुछ लोगों से कहा है कि उसने जो कर्ज दिया है वह कुछ दिनों में माफ हो जाएगा.

सीपीआई (एम) के स्थनीय विधायक सी.एच. कुन्हाम्बु ने कहा कि गलत काम करने वालों को कानून के सामने लाया जाएगा.

यह नया मामला ऐसे समय सामने आया है जब प्रवर्तन निदेशालय ने त्रिशूर और राज्य की राजधानी में दो सहकारी बैंक घोटालों में लगभग एक दर्जन वामपंथी नेताओं को गिरफ्तार किया है.

/