कोरोना का कहर : दो भाइयों सहित 7 की मौत

उदयपुर (Udaipur). जिले में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है, वहीं मंगलवार (Tuesday) को कोरोना से दो भाइयों सहित सात की मृत्यु हो गई. वहीं बांसवाडा (Banswara) जिले के एक कोविड संदिग्ध की भी उपचार के दौरान मौत हो गई. सभी शवों को कोविड एडवाइजरी के अनुसार अंतिम संस्कार के लिए पाबंद कर परिजनों को सौंप दिया.

शहर के चित्रकूट नगर स्थित इएसआई, एम.बी. हॉस्पीटल एवं अन्य निजी चिकित्सालयों में कोविड-19 (Covid-19) से उपचाराधीन तितरड़ी निवासी राजकुमारी (49) पत्नी सत्यनारायण सिंह सांखला, सेक्टर-11 निवासी विमला (70) पत्नी देवराज त्यागी, प्रभात नगर हिरणमगरी सेक्टर-4 निवासी भैरवदत्त (69) पुत्र गोपालदत्त पांडे, ढीकली रोड़ पुराना आरटीओ के पास मीरां नगर निवासी कुलदीप कौर (65) पत्नी जगत सिंह सिख, न्यू विद्या नगर सेक्टर-4 निवासी दुर्गाप्रसाद (76) पुत्र तेजनारायण माथुर, यहीं पड़ौस में रहने वाले सूर्यनारायण (79) पुत्र तेजनारायण माथुर, झल्लारा निवासी मेघजी (67) पुत्र नाना पटेल की मृत्यु हो गई. सभी केे शवों को कोविड एडवाइजरी के अनुसार अंतिम संस्कार कराने के लिए शव डिस्पोजल अधिकारी ओमप्रकाश शर्मा द्वारा उन्हें संकल्प पत्र भरवा कर शव सौंप दिए और परिजनों ने कोविड एडवाइजरी के अनुसार अंतिम संस्कार किया.

बांसवाडा (Banswara) के छोटा डूंगरा निवासी रतनलाल (78) पुत्र नंदलाल जोशी कोविड संदिग्ध होकर अस्पताल में उपचाराधीन था. जिसकी कल रात उपचार के दौरान मृत्यु हो गई. मृतक की कोविड रिपोर्ट नहीं आने पर मृतक के परिजनों ने उसे कोविड संदिग्ध मानते हुए शव का कोरोना एडवाइजरी के अनुसार अंतिम संस्कार करने के लिए संकल्प पत्र पेश किया. इस आधार पर शव डिस्पोजल अधिकारी ने परिजनों को शव सौंप दिया.

2021-04-21
Previous ए-1 ब्रो चीता गैंग का एक नकबजन गिरफ्तार, रूपश्री साड़ी के लॉकर से 3 लाख 40 हजार किए थे चोरी
Next कोरिया में सौंफ की खेती को बढ़ावा : उत्तरी पहाड़ी इलाके सौंफ की खेती के लिए उपयुक्त

Check Also

नन्हे हाथों ने जारी किया विवाह योग्य युवतियों  के लिए मेहंदी का एक आकर्षक डिजाइन

उदयपुर (Udaipur). कहते हैं हुनर जन्मजात होता है और उसका सदुपयोग किया जाए तो वह …

Exit mobile version