सपना, बचत, उड़ान कार्यक्रम बच्चों को पढ़ा रहा बचत, नियोजन और वित्तीय सशक्तीकरण का पाठ

उदयपुर. सपना, बचत, उड़ान कार्यक्रम बच्चों को बचत, नियोजन और वित्तीय सशक्तीकरण का पाठ पढ़ा रहा है. जिन बच्चों ने वित्तीय सशक्तीकरण के कार्यक्रम सपना, बचत, उड़ान: आर्थिक बल, हर परिवार का हक में भाग लिया, उन्हें अपनी इच्छाओं और जरूरतों के बीच का अंतर समझ आया. यह उनके लिए वित्तीय रूप से अधिक स्थिर भविष्य का रास्ता तैयार करने की ओर एक कदम है. गली गली सिम सिम (सेस्मे स्ट्रीट का भारतीय रूपांतरण) बनाने वाली सेस्मे वर्कशॉप इन इंडिया (एसडब्यूआई) और मेटलाइफ फाउंडेशन ने राजस्थान, झारखंड और दिल्ली में वैश्विक मल्टी-मीडिया कार्यक्रम का भारतीय रूपांतरण पेश किया था. 3 से 8 वर्ष के बच्चों और उनके माता-पिता के लिए बनाया गया यह कार्यक्रम वर्तमान तथा भविष्य के लिए खर्च करने, बचाने तथा साझा करने के बारे में समझ-बूझकर फैसले लेने में परिवारों की मदद करता है. साथ ही यह कार्यक्रम वित्तीय सशक्तीकरण के कौशल से जुड़ी उनकी जानकारी, दृष्टिकोण एवं व्यवहार सुधारने वाली सामग्री भी प्रदान करता है.

सेस्मे वर्कशॉप इन इंडिया की उपाध्यक्ष (शिक्षा एवं शोध) इरा जोशी ने कहा कि यह जानने के लिए गुणात्मक अन्वेषण किया गया कि राजस्थान में इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले बच्चों के खर्च करने तथा बचाने के ज्ञान एवं जानकारी में किस प्रकार का बदलाव आया. अभिभावकों, बच्चों और सहायकों के गहन साक्षात्कारों तथा कार्यशाला के अवलोकन से पता चला कि बच्चों ने कार्यक्रम के जरिये ‘जरूरतों और इच्छाओं’ तथा ‘बचत’ जैसे महत्वपूर्ण सबक सीखे. कार्यक्रम द्वारा बचत के बारे में अभिभावकों तथा बच्चों की समझ और व्यवहार भी बेहतर हुए. अधिकतर अभिभावकों ने बताया कि बच्चों ने यह सीखा कि बाज़ार से सामान खरीदने के बजाय उसे घर पर ही तैयार करना बचत का अच्छा तरीका है. मेटलाइफ फाउंडेशन के निदेशक – एशिया क्षेत्र कृष्णा ठक्कर ने कहा कि मेटलाइफ फाउंडेशन और सेस्मे वर्कशॉप लंबे समय से उन समुदायों की मदद करते आए हैं, जिनके बीच हम काम करते हैं. हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि परिवारों को ऐसा ज्ञान प्राप्त हो सके, जिससे वे वित्तीय सुरक्षा के मार्ग पर चल सकें.

http://udaipurkiran.in/hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*