दवाओं के ऊंचे दामों पर सीसीआई ने सवाल उठाए

फार्मा और हेल्थकेयर सेक्टर में सूचनाओं की कई तरह की असमानताएं हैं. भले इनसे प्रतिस्पर्धा कानून का उल्लंघन न हो रहा हो, लेकिन यह सेक्टर की स्वस्थ प्रतिस्पर्धा में बाधक है. भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के चेयरमैन सुधीर मित्तल ने खास बातचीत में यह जानकारी दी. आयोग ने पिछले महीने ‘मेकिंग मार्केट्स वर्क फॉर अफोर्डेबल हेल्थकेयर’ नाम से एक पॉलिसी नोट जारी किया है. इसमें आयोग ने लिखा है कि फार्मा व हेल्थकेयर में असमानताओं से निपटने में विभिन्न मंत्रालयों और नियामकों के हस्तक्षेप की जरूरत होगी. इसमें दवाओं के ऊंचे दाम पर भी सवाल उठाए गए हैं.
सीसीआई की जिम्मेदारी भारतीय बाजारों में प्रतिस्पर्धा पर नजर रखना है. इसके पॉलिसी नोट कहा गया है कि फार्मा व हेल्थकेयर सेक्टर में प्रतिस्पर्धा को रोकने वाली गतिविधियों से संबंधित 52 शिकायतें आयोग को मिली हैं. इनका निपटारा करने में यह बात सामने आई कि कई मसले प्रतिस्पर्धा कानून के दायरे से बाहर हैं. कंपनियां काफी अधिक ट्रेड मार्जिन पर कारोबार करती हैं. इससे दवाओं की कीमतें अधिक बनी हुई हैं.

http://udaipurkiran.in/hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*