ईज अॉफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स में भारत की लंबी छलांग, 77वें नंबर पर पहुंचा

नई दिल्ली, 31 अक्टूबर (उदयपुर किरण). प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आर्थिक नीतियों और सुधारों के कारण भारत व्यापार में सुगमता (ईज ऑफ डूइंग) वाले देश के रूप में अपनी साख लगातार बनाए हुए है. पिछले साल की तुलना में उसने 23 अंकों की छलांग लगाते हुए इस वर्ष 77वां स्थान हासिल किया है.
विश्व बैंक व्यापार से संबंधित विभिन्न कारकों के आधार पर अलग-अलग देशों का मूल्यांकन करता है. विश्व बैंक की बुधवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने 10 में से 6 कारकों में अपनी स्थिति में सुधार किया है. वह पिछले वर्ष की 100 रैंकिंग से ऊपर उठकर 77वें स्थान पर आ गया है.
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज यहां वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु के साथ एक साझा संवाददाता सम्मेलन में भारत की इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह विभिन्न मोर्चों पर मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और आर्थिक सुधारों का नतीजा है.
जेटली ने कहा कि जिस समय मोदी सरकार सत्ता में आई थी उस समय भारत व्यापार में सुगमता के लिहाज से 142वें स्थान पर था तथा उस समय प्रधानमंत्री ने देश को 50वें स्थान पर लाने का संकल्प व्यक्त किया था. पिछले चार साल के दौरान देश 77वें स्थान पर आ गया है तथा 50वें स्थान पर आने का लक्ष्य आसानी से हासिल किया जा सकता है.
उन्होंने कहा कि व्यापार को सुगम बनाने के काम में राज्य सरकारों ने भी अच्छा योगदान किया है तथा जिन मामलों में देश पीछे है, उनमें तेजी से सुधार करने की जरूरत है.
वित्तमंत्री ने विश्व बैंक की रैंकिंग रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि कारोबार की शुरुआत करने के मामले में भारत की स्थिति 19 अंकों का सुधार हुआ है. पिछले वर्ष 156वें स्थान पर रहने वाला भारत अब 137वें स्थान पर पहुंच गया है. सबसे अधिक सुधार कारोबार संबंधी निर्माण कार्य के क्षेत्र में हुआ है जहां देश ने 129 पायदानों की छलांग लगाई है. वर्ष 2017 में 181वें स्थान से आज हम 52वें स्थान पर आ गए हैं.
सीमा पार व्यापार और सीमाशुल्क के क्षेत्र में 66 अंकों का सुधार हुआ है. पहले के 146वें स्थान की बजाय अब हम 80वें स्थान पर हैं. बिजली की आपूर्ति, ऋण सुविधा और संविदा को लागू करने के मामले में भी कुछ सुधार हुआ है.
विश्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार भारत दुनिया के उन 10 देशों में शामिल है, जिन्होंने अपनी स्थिति में बहुत सुधार किया है. बड़े देशों में भारत की उपलब्धि सबसे अधिक उल्लेखनीय है. विश्व बैंक ने दुनिया के 190 देशों व्यापार में सुगमता की स्थिति का मूल्यांकन किया था.
दक्षिण एशिया में भारत व्यापार में सुगमता के हिसाब से पहले नम्बर पर है. उसके बाद भूटान (81), श्रीलंका (100), नेपाल (110), पाकिस्तान (136), मालदीव (139), अफगानिस्तान (167) और बांग्लादेश (176) पर हैं.
विश्व बैंक की रिपोर्ट में व्यापार में सुगमता के हिसाब से न्यूजीलैंड पहले, सिंगापुर दूसरे और डेनमार्क तीसरे स्थान पर है. वित्तमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के न्यूनतम सरकार, अधिकतम सुशासन का ही नतीजा है कि भारत की स्थिति लगातार बेहतर हो रही है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*