महेंद्र सिंह धोनी रांची से हो सकते हैं भाजपा प्रत्याशी!

नई दिल्ली, 23अक्टूबर (उदयपुर किरण). भाजपा क्रिकेट खिलाड़ी महेन्द्र सिंह धोनी को रांची संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा सकती है. धोनी ने आरोपी आम्रपाली बिल्डर का ब्रांड एम्बेसडर बनकर प्रचार किया था और ग्राहकों को लुभाने, पटाने में मदद की थी. ऐसा करने के कारण आम्रपाली बिल्डर से फ्लैट खरीदने का प्रोत्साहन देने के आरोपी धोनी भी हैं. ऐसे ही मामलों को देखते हुए संसद की ग्राहक मामलों की समिति की तेलुगु देशम पार्टी के सांसद जे.सी. दिवाकर रेड्डी की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति ने 2016 में रिपोर्ट दी थी कि किसी कम्पनी के ब्रांड एम्बेसडर को भी पहली बार ऐसी कम्पनी का प्रचार करने पर 2 वर्ष का जेल और 10 लाख रुपये जुर्माना, दूसरी बार किसी भ्रष्टाचारी कम्पनी का प्रचार करने पर 5 वर्ष के लिए जेल और 50 लाख रुपये जुर्माना लगना चाहिए.

समिति ने रिपोर्ट में यह भी कहा है कि कोई ब्रांड एम्बेसडर यह कहकर नहीं बच सकता है कि उसने जब प्रचार किया था तब तो कम्पनी अच्छी थी. उसके बाद कम्पनी ने क्या किया, उत्पाद दी या नहीं, दी तो अच्छी गुणवत्ता की नहीं दी तो उसका दोष नहीं है. क्योंकि ग्राहकों ने तो एम्बेसडर की साख के चलते यह विश्वास करके उत्पाद खरीदा ताकि उसको समय से और गुणवत्ता वाला उत्पाद मिलेगा. इसलिए यदि जिस उत्पाद का प्रचार ब्रांड एम्बेसडर ने किया यदि वह प्राडक्ट ग्राहकों को नहीं मिला या मिला भी तो उस गुणवत्ता वाला नहीं मिला तो इसका जिम्मेदार ब्रांड एम्बेसडर भी होगा.

इसके अनुसार तो 42 हजार उपभोक्ताओं को दर-दर भटकने के लिए मजबूर कर देने वाली भ्रष्टाचार आरोपी आम्रपाली बिल्डर कम्पनी के ब्रांड एम्बेसडर रहे तथा उसके भ्रष्टाचारी मालिक अनिल शर्मा के बहुत अंतरंग रहे महेन्द्र सिंह धोनी भी जिम्मेदार हैं. उनकी पत्नी उसी आम्रपाली में निदेशक रही हैं. भाजपा उस धोनी को रांची से वर्तमान सांसद रामटहल चौधरी का टिकट काटकर प्रत्याशी बना सकती है. सूत्रों का कहना है कि भाजपा के लोग उनके नाम पर बहुत ही अधिक सकारात्मक हैं. उनको लगता है कि धोनी आयेंगे तो विपक्षी दलों के प्रत्याशियों को धो देंगे. जैसा राजीव गांधी के समय अमिताभ बच्चन के बारे में कांग्रेस सोचती थी. लेकिन इससे झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन को कोई फर्क नहीं पड़ता है कि रांची से धोनी लड़ते हैं या रामटहल या कोई और. उनका कहना है कि लड़ना है तो लड़ना है.

आदिवासी तो अपने हक के लिए सदियों से लड़ रहे हैं. इस बारे में भाजपा के एक नेता का कहना है कि हमें तो दरी बिछाने, पोस्टर लगाने, फेसबुक, ट्वीटर अभियान चलाने वाले काम करने हैं, ऊपर से लाकर सिर पर ऐसे किसको-किसको बैठाया जा रहा है, इस बारे में हम क्या कह सकते हैं. इसके लिए तो ऊपर से लादने वाले लाख तर्क दे देंगे. जबकि एक अन्य भाजपा नेता का कहना है कि अलग–अलग क्षेत्र के ऐसे तमाम चर्चित चेहरों को लोकसभा व विधानसभा का टिकट देकर अधिक से अधिक सीटें जीतने का उपक्रम हो रहा है. यह सभी राजनीतिक दल करते हैं, भाजपा भी कर रही है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*