अरुण शौरी, यशवंत सिन्हा, प्रशांत भूषण बनने लगे धुरी

नई दिल्ली, 16 सितम्बर (उदयपुर किरण). अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रहे दो केन्द्रीय मंत्री अरुण शौरी व यशवंत सिन्हा के साथ सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण मिल कर कई दलों की धूरी बनने लगे हैं. ये उनके लिए उत्प्रेरक का कार्य करने लगे हैं. इसके अलावा भाजपा की केन्द्र सरकार पर तथ्यों सहित सबसे तीखा प्रहार यही तीनों मिलकर बाकायदे संवाददाता सम्मेलन करके कर रहे हैं.

ये तीनों ही अपने-अपने क्षेत्र में माहिर हैं, इसलिए तमाम दबावों के बावजूद इनके कहे का कवरेज देश-विदेश की मीडिया में हो रहा है और बात जनता तक पहुंच रही है. चाहे वह राजनीतिक, आर्थिक या रक्षा का ही मुद्दा क्यों ना हो. सबकी परत दर परत खोल रहे हैं. अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा की आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी खुब पट रही है. ऐसे में यह संभावना जताई जाने लगी है कि भविष्य में प्रशांत भूषण को अरविन्द से सुलह कराने में शौरी व सिन्हा सफल हो सकते हैं. उधर गुजरात के युवा पटेल नेता हार्दिक पटेल से भी इनके संबंध अच्छे हैं. इसी तरह से अन्य कई राज्यों के ऐसे तेज तर्रार युवा नेताओं से भी ये सम्पर्क में हैं.

योजना ऐसे युवा जुझारू नेताओं को एक मंच पर लाने की है, जो आने वाले दिनों में एक मजबूत ताकत बन सकें. और शक्तिशाली सत्ता से ना डरें ना झुकें, जनता के लिए जुझें.इस बारे में आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह का कहना है कि देशहित के बहुत से ऐसे मुद्दे हैं जिस पर वैचारिक विरोधी भी एक मंच पर आते हैं, मिलकर कार्य करते हैं. और जब अपने अपने क्षेत्र के बड़े लोग ऐसे किसी राष्ट्रहित के मुद्दे पर एक मंच पर आते हैं, एक साथ मिलकर संघर्ष करते हैं तो उससे राष्ट्रहित का बहुत बड़ा लक्ष्य सधता है. इसको इसके मद्देनजर देखना चाहिए.

Report By Udaipur Kiran

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*