गूगल ने डूडल बनाकर महान इंजीनियर एम. विश्वेश्वरय्या को किया याद

नई दिल्ली, 15 सितम्बर (उदयपुर किरण). गूगल ने मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (एम. विश्वेश्वरय्या) के 157वें जन्दिन पर डूडल बनाकर उन्हें याद किया है. विश्वेश्वरय्या का जन्म 15 सितम्बर 1861 को तेलगु ब्राह्मण परिवार में आंध्र प्रदेश के चिकबल्लूर जिले के मुड्डेनहाली गांव में हुआ था.
इनके जन्मदिन को इंजीनियर्स डे के रूप में मानाया जाता है, क्योंकि उन्होंने देश में ऐसे बांधों का निर्माण किया जो दुनिया भर के इंजीनियर्स के लिए मिसाल हैं.

एम. विश्वेश्वरय्या को भारत में बाढ़ को रोकने के लिए स्वचालित द्वार निर्माण के लिए भी याद किया जाता हैं. भारत में इसकी परिकल्पना को उन्होंने ने ही साकार किया. प्रारंभिक दौर में ऐसे गेट का निर्माण 1903 में पुणे के पास स्थित खडकवासला जलाशय से हुई. इसकी सफलता के बाद बाढ़ की रोकथाम के लिए ऐसे गेट का निर्माण टिगरा डैम और कृष्णा राजा सागर डैम में भी हुआ.

हैदराबाद शहर को बाढ़ से निजात दिलाने के लिए तैयार की गयी सफल कार्ययोजना की वजह से हैदराबाद शहर पूर्ण रूप से बाढ़मुक्त बना. साथ ही समुद्र किनारे बसे विशाखापट्नम शहर को समुद्री कटाव से रोकने में उनकी योजना पूरी तरह सफल रही. 90 साल की उम्र में उन्होंने पूरे देश की नदियों पर होने वाले बांध के निर्माण की डिज़ाइन और सलाहकार के रूप में योगदान दिया. भारत सरकार ने उन्हें उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए मरणोपरांत 1955 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया था. 14 अप्रैल, 1862 को 101 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*