ओला 3 साल में 10 लाख बिजली चालित वाहन उतारेगी

नई दिल्ली/बेंगलुरु, 30 अगस्त (उदयपुर किरण). अग्रणी राइड प्लेटफॉर्म ओला ने देश की सड़कों पर बिजली चालित वाहनों की तादाद बढ़ाने और नवाचारी प्रयोग को बढ़ावा देने के मकसद से ‘ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट’ शुरू करने की घोषणा की है.

कंपनी ने कहा कि वह अपनी विशेष कार्यक्रम के तहत अगामी तीन साल में देश की सड़कों पर बिजली चालित वाहनों की तादाद 10 लाख करने की दिशा में काम कर रही है. ओला में सामरिक उपक्रमों के लिए वरिष्ठ उपाध्यक्ष आनंद शाह ने कहा, मोबिलिटी के क्षेत्र में बदलाव से लोगों के जीवन में सुधार हो रहा है और रोजगार के अवसर मिल रहे हैं. इस बदलाव से शहरों की सड़कों पर भीड़ कम हो रही है और यह पहल प्रदूषण को कम करने में ही सहायक है. साझा वाहन की पहल से सड़कों पर भीड़ कम हुई है. ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट यह सुनिश्चित करने के लिए काम करेगा कि नवप्रवर्तनों का सकारात्मक प्रभाव जारी रहे.

कंपनी ने कहा कि शाह की अगुवाई में इंस्टीट्यूट में रणनीतिक विचारकों, शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों और दुनियाभर के प्रशिक्षित विशेषज्ञों की एक प्रारंभिक टीम बनाई गई है. इन विशेषज्ञों ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, किंग्स कॉलेज-लंदन, स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्टेक्चर, द कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, और इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस जैसे दुनिया के विख्यात संस्थानों से प्रशिक्षण प्राप्त किया है.

उन्होंने कहा कि इंस्टीट्यूट में एक वैश्विक सलाहकार बोर्ड होगा जो महत्वपूर्ण मसलों पर अपनी राय देगा. बोर्ड में मोबिलिटी क्षेत्र के करीब एक दर्जन विशेषज्ञों को अगले साल तक शामिल किया जाएगा.

कंपनी ने कहा कि उसकी योजना में जलवायु परिवर्तन के दुष्परिणामों से बचाव के लिए समुचित उपाय समेत परिवहन के क्षेत्र में नवाचार पर अमल करना है. साथ ही, रोजगार के अवसर पैदा करने और डिजिटलीकरण को प्रोत्साहन देना उसकी प्राथमिकताओं में शामिल है.

ओला की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि बिजली आधारित परिवहन को व्यावहारिक बनाने के लिए कंपनी ने पहले ही ‘मिशन टू इलेक्ट्रिक’ लांच किया है.

Report By Udaipur Kiran

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*