नई दिल्ली, 2 अप्रैल . भारत में फरवरी और मार्च में नियुक्तियों में ती प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि सफेदपोश गिग जॉब्स में पिछले साल के मुकाबले 184 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. मंगलवार को एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई.

फ़ाउंडिट (पूर्व में मॉन्स्टर एपीएसी और एमई) की रिपोर्ट के अनुसार आईटी सेक्टर गिग बूम में सबसे आगे है. गिग इकॉनमी में आईटी सॉफ्टवेयर की हिस्सेदारी लगभग दोगुनी हो गई है. मार्च 2023 में 22 प्रतिशत के मुकाबले इस साल मार्च में यह बढ़कर 46 प्रतिशत हो गई है.

फ़ाउंडिट के सीईओ शेखर गरिसा ने कहा,“दिल्ली, बेंगलुरु और मुंबई जैसे मेट्रो शहर छोटी नौकरियों के लिए मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं. हमें उम्मीद है कि कुछ महीनों में गिग इकॉनमी और भी बढ़ेगी.”

विज्ञापन और विपणन में भी उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, पिछले वर्ष में गिग जॉब्स की हिस्सेदारी 5 प्रतिशत से बढ़कर 18 प्रतिशत हो गई.

आईटी क्षेत्र में फरवरी में सात प्रतिशत की वृद्धि के बाद मार्च में यह दो प्रतिशत रह गई.

बैंकिंग/वित्तीय सेवा और बीमा (बीएफएसआई) क्षेत्र में वृद्धि स्थिर रही.

रिपोर्ट में कहा गया है कि इंजीनियरिंग, सीमेंट, निर्माण और लोहा/इस्पात ने मार्च में विकास दर स्थिर रही.

इसके अलावा, सरकारी, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) और रक्षा क्षेत्रों में नियुक्तियों में थोड़ी वृद्धि देखी गई.

/