पशु विनिमय कार्यक्रम के तहत रॉयल बंगाल टाइगर्स समेत बंगाल के 18 जानवर पहुंचे त्रिपुरा – indias.news

अगरतला, 5 फरवरी . त्रिपुरा में पशु विनिमय कार्यक्रम के अंतर्गत उत्तर बंगाल के चिड़ियाघर से सिपाहीजला वन्यजीव अभयारण्य और चिड़ियाघर को 18 पशु सहित दो रॉयल बंगाल टाइगर्स मिलने के बाद राज्य के प्रशु प्रेमी उत्साहित हैं.

त्रिपुरा के सिपाहीजाला वन्यजीव अभयारण्य और क्लाउडेड लेपर्ड नेशनल पार्क के निदेशक बिस्वजीत दास ने कहा कि केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (सीजेडए) के दिशानिर्देशों के अनुसार, पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में उत्तरी बंगाल चिड़ियाघर के साथ पशु विनिमय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है.

वहीं, दास ने को बताया, ”पशु विनिमय कार्यक्रम के हिस्से के रूप में उत्तर बंगाल चिड़ियाघर से कुल 18 जानवर त्रिपुरा आ रहे हैं और सिपाहीजला वन्यजीव अभयारण्य से 12 जानवरों को पारस्परिक प्रक्रिया में उत्तर बंगाल चिड़ियाघर भेजा जाएगा.”

उन्होंने कहा कि रॉयल बंगाल टाइगर का एक जोड़ा, तेंदुओं का एक जोड़ा, चार गोल्डन तीतर, चार सिल्वर तीतर, दो मोर और चार पहाड़ी मैना सिपाहीजला आ रहे हैं और एक शेर का जोड़ा, तमाशा बंदरों का एक जोड़ा (जिन्हें ‘चस्मा’ भी कहा जाता है) बदले में बानर’), दो तेंदुए बिल्लियां और चार काले हिरणों को उत्तर बंगाल भेजा जाएगा.

अधिकारी ने यह भी कहा, ”लोडिंग और अनलोडिंग के दौरान आने वाले और बाहर जाने वाले जानवरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सिपाहीजला वन्यजीव अभयारण्य दो दिनों के लिए मंगलवार और बुधवार को आगंतुकों के लिए बंद रहेगा.”

सीजेडए के दिशानिर्देशों का हवाला देते हुए दास ने कहा कि नए मेहमानों को 30 दिनों की संगरोध अवधि के बाद सिपाहीजला वन्यजीव अभयारण्य में आगंतुकों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा.

अधिकारी ने कहा कि अगरतला से 35 किमी दक्षिण में सेपाहिजाला चिड़ियाघर में रॉयल बंगाल टाइगर्स और अन्य नए मेहमानों की मौजूदगी से निश्चित रूप से पर्यटकों के लिए इसका आकर्षण बढ़ेगा.

एसएचके/एसजीके