सौ रूपए के स्टाम्प पर करोड़ों की भूमि का फर्जी इकरार करने वाला भूमाफिया गिरफ्तार

उदयपुर. शहर के सुखेर थाना क्षेत्र के बेदला में काश्तकार की बेशकीमती काश्त भूमि को मात्र सौ रूपए के स्टाम्प पर विक्रय इकरार कर धोखे से जमीन हड़पने वाला एक भूमाफिया को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिाय है. अदालत ने तीन दिन के पुलिस रिमांड पर रखने के आदेश दिए. उसकी निशानदेही से उसके अन्य साथियों के बारे में पूछताछ कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा.

सुखेर थानाधिकारी मोतीराम ने बताया कि डांगियों का मोहल्ला बडग़ांव निवासी मगना पुत्र रत्ता डांगी की धोखे से सौ रूपए के स्टाम्प पर बेदला की बेशकीमती काश्त जमीन के फर्जी इकरार तैयार कर हड़पने का प्रयास करने के मामले में एक भूमाफिया गिरधर भवन भटियानी चौहट्टा हाल आश्रम रोड़ भुवाणा सुखेर निवासी महेंद्र पुत्र गिरधारीलाल शर्मा को गिरफ्तार किया. आरोपी को सोमवार को अदालत में पेश किया जहां उसे 13 जून तक पुलिस रिमांड पर रखने के आदेश दिए. इस मामले में साथी आरोपी नीतिन पालीवाल, मंजू सनाढ्य व अन्य के बारे में पूछताछ कर इसकी निशानदेही से उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा और मामले में निष्पादित किए गए फर्जी मूल विक्रय इकरार बरामद किया जाएगा.

थानाधिकारी ने बताया कि मगना डांगी ने रिपोर्ट में बताया कि उसकी पैतृक कृषि काश्त भूमि बेदला खुर्द पटवार मंडल बेदला में है. 7 अगस्त 2017 को उसकी 187 व पुराना 177 होकर आराजी संख्या 472, 473, 475, 479, 488 व 510 और 188 पुराना 178 होकर आराजी संख्या 476 उसकी बेशकीमती काश्त भूमि है जिस पर 7 अगस्त 2017 को काश्त भूमि पर उसका पुत्र सुखलाल बैठा हुआ था उसी दौरान धर्मेंद्र नागदा व चतर सिंह मेहता व देवीलाल नागदा ने आकर पूछा कि भूमि प्रशांत धाबाई ने खरीदी है. यह सुनकर सुखराम आश्चर्यचकित हो गया. उसका कहना था कि उसके पिता 9-10 माह से बिस्तर में है तो उन्होंने कैसे इसका इकरार कर दिया.

देखने पर पता चला कि 4 सितम्बर 2011 को सौ रूपए के स्टाम्प पर बिना नोटरी का एक स्टाम्प दिखाया जिस पर जमीन खरीदी की इबादत लिखी थी, उसमें जनता मार्ग सूरजपोल निवासी मंजू पत्नी उमेश सनाढ्य, गिरधर भवन भटियानी चौहट्टा निवासी महेंद्र पुत्र गिरधारीलाल शर्मा, नीतिन पुत्र कृष्णकांत शर्मा ने फरियादी का झूठा अंगूठा लगाकर 37 लाख 75 हजार प्रति बीघा के हिसाब से विक्रय इकरार का तकाजा कर रखा था, जिसमें अग्रिम राशि 5 मई 2011 को 5 लाख, 8 सितम्बर 2011 को दो लाख व 50 लाख चेक के द्वारा भुगतान करना बताया गया. इस तरह षडय़ंत्रपूर्वक फर्जी दस्तावेज तैयार कर इन लोगों ने जमीन हड़पने के लिए फर्जी इकरार तैयार किया है. ये काफी शातिर है. इनके खिलाफ कई प्रकरण पूर्व में दर्ज है. ये काश्तकारों की जमीन को धोखे से हड़प रहे है. पुलिस ने इनके खिलाफ भादसं की धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी में मामला दर्ज किया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*