सैटलाइट फोटोज में दिखीं मर्खा नदी के दोनों ओर गहरी रहस्‍यमयी धारियां, नासा के वैज्ञानिक भी हैरान


मास्को . अमेरिकी अंतरिक्ष संस्थान नासा द्वारा कई सालों से लैंडसैट 8 से ली गई तस्वीरों पर नजर डालें तो सिलवटदार जमीन नजर आ रही है. मर्खा नदी के दोनों ओर गहरी और हल्‍की दोनों ही तरह की धारियां नजर आ रही हैं.

ये रहस्‍यमयी धारियां सभी मौसमों में नजर आ रही है, लेकिन सर्दियों में बर्फ की वजह से ये एक-दूसरे से अलग रहस्‍यमय धारियां बिल्‍कुल साफ नजर आ रही हैं. साइबेरिया में दिखीं इन रहस्यमयी धारियों को लेकर वैज्ञानिक आश्वस्त नहीं हैं, लेकिन वे मानते हैं कि इसका रहस्य बर्फ से है. रूस के इस इलाके में कुछ समय के लिए ही जमीन दिखाई देती है और साल के 90 प्रतिशत दिनों में बर्फ से ढंका रहता है.

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि कभी बर्फ के नीचे दबने और कभी बर्फ के पिघलने पर जमीन के बाहर आने से यह रहस्‍यमयी डिजाइन बना है. इस चक्र के दौरान, मिट्टी और पत्थर स्वाभाविक रूप से खुद को आकार देते हैं. कुछ अन्‍य विशेषज्ञों का कहना है कि करोड़ों सालों में जमीन के क्षरण की वजह से ये धारियां पड़ी हैं. इस तरह की धारियां नार्वे में भी देखी गई हैं, लेकिन साइबेरिया के मुकाबले यह बहुत छोटी हैं. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, पैटर्न मिट्टी और पत्थर के कटाव का एक परिणाम हो सकता है और ये धारियां चट्टानों की तलछट है.

हालांकि नासा के वैज्ञानिकों का मानना है कि यह धारियां अभी भी उनके लिए रहस्‍य हैं. जब पिघलती बर्फ या बारिश का पानी नीचे की ओर बहता है, तो चट्टानों के कटाव के कारण स्लाइस के समान परतें बन सकती हैं. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के एक शोधकर्ता ने दावा किया कि गहरे रंग की धारियां खड़ी या अधिक ढलान वाले क्षेत्रों को दर्शाती हैं, जबकि हल्की धारियां सपाट क्षेत्रों को दिखाती हैं.

Check Also

कोरोना संक्रमित महिला ने कोविड केयर सेंटर की पांचवीं मंझिल से कूदकर जान दी

राजकोट (Rajkot) . शहर के यूनिवर्सिटी रोड स्थित समरल होस्टेल में कोविड केयर सेंटर की …