शी चिनफिंग और सुलयोक के बीच हुई मुलाकात

Photo of author

बीजिंग, 9 मई . चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने गुरुवार सुबह बुडापेस्ट स्थित राष्ट्रपति भवन में हंगरी के राष्ट्रपति सुलयोक तमस के साथ मुलाकात की.

इस मौके पर शी चिनफिंग ने कहा कि कूटनीतिक संबंधों की स्थापना के बाद चीन और हंगरी हमेशा एक-दूसरे का पारस्परिक सम्मान करते हैं, समान व्यवहार करते हैं और आपसी लाभ वाला सहयोग करते हैं.

चीन-हंगरी संबंध अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति में हुए परिवर्तन की परीक्षा में खरे उतर चुके हैं और व्यापक रणनीतिक साझेदार बने. अब चीन-हंगरी संबंध इतिहास में सबसे अच्छे दौर में हैं.

पारंपरिक मित्रता मज़बूत है और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग की व्यापक उपलब्धियां हासिल हुई हैं. इस साल चीन-हंगरी कूटनीतिक संबंधों की स्थापना की 75वीं वर्षगांठ है. चीन हंगरी के साथ पारंपरिक मित्रता का विकास करते हुए आपसी राजनीतिक विश्वास और आपसी लाभ वाला सहयोग बढ़ाना चाहता है, ताकि चीन- हंगरी संबंध नए स्तर पर पहुंच सकें.

शी चिनफिंग ने आगे कहा कि पिछले 75 सालों में चीन-हंगरी संबंधों का सतत विकास कायम रहा. दोनों पक्षों को बहुमूल्य अनुभव का सारांश कर भविष्य का रास्ता स्पष्ट करना होगा. दोनों देशों को एक-दूसरे के साथ समान व्यवहार करते हुए अपनी राष्ट्रीय स्थिति के अनुरूप विकास पथ बढ़ाना चाहिए.

आपसी विश्वास पर कायम रहते हुए एक-दूसरे की संप्रभुता, सुरक्षा और विकास के हितों का समर्थन और गारंटी की जानी चाहिए. बेल्ट एंड रोड के ढांचे में विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के साथ मानव जाति की शांति और विकास बढ़ाने में योगदान दिया जाना चाहिए.

शी चिनफिंग ने यह भी कहा कि चीन चीनी शैली के आधुनिकीकरण से मजबूत देश का निर्माण और राष्ट्रीय पुनरुत्थान बढ़ा रहा है. इससे दुनिया को ज्यादा अवसर मिलेंगे. चीन हंगरी के साथ आपसी राजनीतिक विश्वास मजबूत कर विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाना चाहता है.

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)